मुजफ्फरपुर एंटीजन किट धांदली के आरोपी प्रबंधक पर विभाग मेहरबान, छुट्टी पर भेजकर बचा रहे

Nawab Ali, Last updated: Sat, 2nd Oct 2021, 1:02 PM IST
  • बिहार के मुजफ्फरपुर में एंटीजन किट धांदली मामलादर्ज हुए चार महीने से भी ज्यादा का समय हो गया है लेकिन प्रबंधक प्रवीण कुमार के खिलाफ कोई भी कार्रवाई नहीं हुई है. स्वास्थ्य विभाग कोई भी ठोस कार्रवाई करने में झिझक रहा है. विभाग के अधिकारी मामले पर जवाबदेही से बच रहे हैं.
मुजफ्फरपुर एंटीजन टेस्ट धांदली के आरोपी को विभाग ने अवकाश पर भेजा. (फाइल फोटो)

मुजफ्फरपुर. बिहार के मुजफ्फरपुर में एंटीजन किट धांदली मामलादर्ज हुए चार महीने से भी ज्यादा का समय हो गया है लेकिन प्रबंधक प्रवीण कुमार के खिलाफ कोई भी कार्रवाई नहीं हुई है. स्वास्थ्य विभाग कार्रवाई को लेकर अभी तक कोई भी सख्त कदम नहीं उठा पा रहा है. विभाग के अधिकारी मामले मामले पर जवाब देने से बच रहे हैं. विभाग द्वारा प्रबंधक के खिलाफ कोई भी कार्रवाई न होने से कई सवाल खड़े हो रहे हैं. मामले की गंभीरता को देखते हुए मानवाधिकार अधिवक्ता एसके झा ने हाईकोर्ट और मानवाधिकार का दरवाजा खटखटाया है.

मई महीने में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान मुजफ्फरपुर में एंटीजन किट बेचने अ मामला सामने आया था. मुजफ्फरपुर सदर अस्पताल में पुलिस ने छापेमारी करते हुए चार हजार रैपिड एंटीजन किट बरामद की थी जिन्हें आरोपी इन किटों को बेच रहे थे. लेकिन अब इस मामले में आरोपी प्रवीण कुमार के खिलाफ कार्रवाई को लेकर विभाग का ढीला रवैया सामने आ रहे है. सदर अस्पताल के उपाधीक्षक ने बिना कोई कार्रवाई किये प्रवीण कुमार अवकाश पर भेज दिया. इसका खुलासा सिविल सर्जन डॉ विनय कुमार शर्मा द्वारा सदर अस्पताल के उपाधीक्षक से जानकारी मांगने पर हुआ है. उपाधीक्षक पर गलत तरीके से आवक्ष देने का आरोप लग रहा है. 

बिहार में खत्म होगी बालू की किल्लत! 8 जिलों में बालू खनन को कैबिनेट से मंजूरी

रैपिड एंटीजन टेस्ट किट बेचने की सूचना पर तत्कालीन डीएसपी सुमन के नेतृत्व में पुलिस टीम ने छापेमारी की थी. किट की कालाबाजारी का खुलासा होने पर पांच लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था. सदर अस्पताल का प्रबंधक व सरैया पीएचसी का एक लैब टेक्नीशियन अभी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें