मुजफ्फरपुर: नई सेवा शर्त के खिलाफ TET, STET शिक्षकों का फैमिली के साथ प्रदर्शन

Smart News Team, Last updated: 27/08/2020 08:41 PM IST
  • बिहार के मुजफ्फरपुर में टीईटी और एसटीईटी शिक्षकों ने सरकार की नई सेवा शर्त पर परिवार के साथ प्रोटेस्ट विद फैमिली आंदोलन चलाया.
टीईटी और एसटीईटी शिक्षकों ने बिहार सरकार की नई सेवा शर्त पर परिवार के साथ प्रोटेस्ट विद फैमिली आंदोलन चलाया.

मुजफ्फरपुर. मुजफ्फरपुर में TET और STET शिक्षकों ने नई सेवा शर्त मिलने पर परिवार के साथ प्रोटेस्ट विद फैमिली आंदोलन चलाया. आंदोलन कर रहे शिक्षकों ने कहा कि नियमित शिक्षकों की तरह ही सेवा शर्त से कम कुछ भी मंजूर नहीं है. बता दें कि इससे पहले भी ये शिक्षक अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर चुके हैं. लेकिन गुरुवार को इन्होंने अनोखे तरीके से प्रोटेस्ट विद फैमली आंदोलन चलाया. 

सैलून संचालक की हत्या से दहला मुजफ्फरपुर, एनएच के सर्विस लेन में पड़ी मिली लाश

इस विरोध प्रदर्शन में शिक्षक संघ राज्य भर में सप्ताह के अंतिम दिन शिक्षकों के साथ अपने घर से ही प्रोटेस्ट विद फैमिली आंदोलन चला कर अपना विरोध जता रहे हैं. दरअसल राज्य में प्राथमिक और उच्चतर माध्यमिक तक के शिक्षकों के लिए जारी सेवा शर्त पर शिक्षकों का आक्रोश लगातार बढ़ता जा रहा है. संघ के जिलाध्यक्ष मृत्युंजय कुमार ने कहा कि सरकार शिक्षक और समाज को लाख बरगलाने की कोशिश कर ले लेकिन बिहार के शिक्षक और आम अवाम समझ चुकी है कि सरकार चुनावी लॉलीपॉप फेंककर अपना उल्लू सीधा करना चाहती है. शिक्षक अब झांसे में आने वाले नही हैं. उन्होंने कहा कि सरकार की दोरंगी नीति के कारण शिक्षक सपरिवार विरोध प्रदर्शन को बाध्य है लेकिन उनके मांगों को सुनने के लिए सरकार आज भी तैयार नहीं है.

मुजफ्फरपुर: बीआरबीयू गेस्ट टीचर्स का विवि में धरना, जमकर की नारेबाजी

उन्होंने ऐलान किया कि पांच सितंबर को अपमान का बदला लेने को बिहार के लाखों शिक्षक बदला लो बदल डालो के साथ संकल्प दिवस मनाएंगे. संघ के वरीय उपाध्यक्ष दिलीप कुमार, जिला मीडिया प्रभारी विवेक कुमार ने कहा कि नई सेवा शर्त हमें कतई मंजूर नहीं है. हमारी मांग है कि नियमित शिक्षकों की भांति पूर्ण वेतन और उनकी जैसी सेवा शर्त के साथ राज्यकर्मी का दर्जा दिया जाय. टीईटी एसटीईटी शिक्षकों के लिए अलग केडर का निर्माण किया जाए. राष्ट्रीय स्तर पर तय मानकों को पूरा करने वाले लाखों टीईटी एसटीईटी उत्तीर्ण शिक्षक आज भी अपने अधिकारों के लिए संघर्षरत है.

 

शिक्षकों के परिवार
आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें