CBSE की सिंगल गर्ल चाइल्ड स्कॉलरशिप का लाभ नहीं ले पा रहीं मुजफ्फरपुर की बेटियां

Smart News Team, Last updated: 22/11/2020 09:42 AM IST
  • मुजफ्फरपुर की बेटियां सीबीएसई बोर्ड की सिंगल गर्ल चाइल्ड स्कॉलरशिप स्किम का लाभ नहीं ले पा रहीं हैं. क्योंकि, सीबीएसई बोर्ड द्वारा तय किए गए मापदंड को जिले में केंद्रीय विद्यालय और नवोदय विद्यालय को छोड़ कर कोई भी स्कूल पूरा नहीं करता है. जिस वजह से बेटियों का इस योजना का लाभ नहीं मिल पा रहा हैं.
CBSE के सिंगल गर्ल चाइल्ड स्कॉलरशिप का लाभ मुजफ्फरपुर जिले की बेटियों को नहीं मिल पा रहा है.

मुजफ्फरपुर. अपने माता-पिता की इकलौती संतान होने के बाद भी मुजफ्फरपुर जिले की बेटियां सीबीएसई बोर्ड द्वारा चलाए जा रहे सिंगल गर्ल चाइल्ड योजना का लाभ नहीं ले पा रही हैं. आंकड़े बताते हैं कि पिछले 8 साल से जिले की एक भी बेटी इस योजना से लाभान्वित नहीं हुई है. इस योजना का लाभ लेने के लिए तय किये गए मापदंड में पेंच फंसा हुआ है.

इस योजना का लाभ लेने के लिए सीबीएसई द्वारा किए गए मापदंड के अनुसार 11 वीं क्लास में पढ़ने वाली बेटियों की फीस प्रति माह 1500 रुपये से ज्यादा न हो, लेकिन जिले में एक भी ऐसा स्कूल नहीं है जिसका 1500 रुपये फीस हो. जिले के लगभग सभी स्कूल में प्रति माह 2000 से।अधिक फीस है. जिसके चलते सीबीएसई बोर्ड द्वारा चलाए जा रहे सिंगल गर्ल चाइल्ड योजना का लाभ जिले की बेटियां नहीं ले पा रहीं हैं.

पुलिस चौकसी की खुली पोल, छठ मनाने गए शिक्षक के घर से 11 ताले तोड़कर चोरी

बता दें कि सीबीएसई के स्कूलों में सिंगल गर्ल चाइल्ड को बोर्ड की तरफ से 500 रुपये प्रति माह स्कॉलरशिप देने की योजना है. स्कॉलरशिप के लिए आवेदन की प्रकिया शुरू कर दी गई है. 10 दिसंबर को आवेदन करने की अंतिम तारीख है. इस1 योजना का लाभ लेने के लिए छात्रा क्लास 10 वीं पास होनी चाहिए. कम से कम 10 वीं में उसके 60 प्रतिशत अंक हो. इसके अलावा क्लास 11 वीं या 12 वीं में वह जिस स्कूल में पढ़ती हो, वहां 1500 रुपये से अधिक ट्यूशन फीस न हो.

मुजफ्फपुर: हथौड़ी में जमीन विवाद पर पुलिस पर हमला, एक पुलिसकर्मी सहित 4 घायल

जिले की छात्राएं दो शर्त तो पूरा करती हैं मगर तीसरी कंडीशन ने अड़ंगा लगा दिया है. जिले में सीबीएसई की इस स्कीम के शर्तों को केंद्रीय विद्यालय और नवोदय विद्यालय पूरा करते हैं.इसके अलावा जिले का कोई भी स्कूल यह शर्त पूरा नहीं करता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें