खुलासा : मुजफ्फरपुर नेशनल हाईवे पर कोविड किट के नाम पर जबरन वसूली

Smart News Team, Last updated: 20/04/2021 12:26 PM IST
  • नेशनल हाईवे पर रात 10 बजे से चार बजे तक जबरन लोगों को कोव‍िड कि‍ट या फर्जी पर्ची देकर 200 से लेकर 600 रुपये तक वसूली करने की बात सामने आई है. मामला थाना क्षेत्र के मैठी टोल प्लाजा का है.
मुजफ्फरपुर नेशनल हाईवे पर कोव‍िड कि‍ट के नाम पर वसूली की जाती है. (प्रतिकात्मक फोटो)

मुजफ्फरपुर- देश के साथ-साथ बिहार में कोरोना की दूसरी लहर का कहर जारी है. इस बीच नेशनल हाईवे पर रात 10 बजे से चार बजे तक जबरन लोगों को कोव‍िड कि‍ट या फर्जी पर्ची देकर 200 से लेकर 600 रुपये तक वसूली करने की बात सामने आई है. मामला थाना क्षेत्र के मैठी टोल प्लाजा का है.

मिली जानकारी के मुताबिक, जब लोग अवैध वसूली का विरोध करते हैं तो उन्हें गालियां दी जाती हैं. बताया जा रहा है कि यह वसूली का काम बीते 2 महीनों से चल रहा है. मामला प्रकाश में तब आया जब वैध वसूली करने वाले ने कथित तौर पर एक पुलिस अधिकारी को रोक रुपये की मांग की. इसके बाद गाड़ी में बैठे अधिकारी के अंगरक्षकों ने खदेड़ कर एक को पकड़ लिया. फिर गायघाट पुलिस को सूचना देकर उसे सुपुर्द कर दिया.

मुजफ्फरपुरः 11वीं की छात्रा की सूझबूझ से जेल ब्रेक की बड़ी कोशिश नाकाम

स्थानीय लोगों के मुताबिक, एक सफेद रंग की स्कार्पियो से 10 लोग रात 10 बजे आते हैं. टोल प्लाजा से करीब दो सौ मीटर पश्चिम एवं पूर्व में हाथ में ट्रैफिक लाइट लेकर केवल बाहरी वाहन चालकों से एक पर्ची देकर दो सौ से लेकर पांच सौ तक वसूली करते हैं. इसके बाद सुबह के चार बजते ही सभी दरभंगा की ओर चले जाते हैं. उत्तरप्रदेश के एक ट्रक चालक उपेंद्र कुमार पाल ने बताया कि उसे रोककर कहा गया कि हम परिवहन विभाग से हैं. कोविड 19 बचाव हेतु सेफ्टी किट दे रहे हैं जिसकी कीमत 6 सौ रुपये है. केवल पर्ची लेने पर दो सौ रुपये देना होगा. जब हमने किट एवं पर्ची लेने से मना किया तो गालियां देने लगे.

ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी के कारण अस्पतालों ने मरीजों को एडमिट करने से किया मना

पापा मुझे यहां से ले जाओ, मैं मर जाऊंगी…बेटी ने ऐसी लगाई गुहार कि पिता ने…

मुजफ्फरपुर : 25 अप्रैल को प्रस्तावित CEE की परीक्षा टली, जानें वजह

समुद्र में भटककर पाकिस्तान पहुंचा गायघाट का दिनेश, वापस लाने की लगी गुहार

नीतीश कैबिनेट का बड़ा फैसला, बिहार में जल्द शुरू होगी महिला व युवा उद्यमी योजना

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें