मुजफ्फरपुर के माड़ीपुर में बंद के दौरान राहगीरों के साथ हुई मारपीट

Smart News Team, Last updated: 08/12/2020 04:40 PM IST
  • बन्द समर्थकों ने काजी मोहम्मदपुर थाना क्षेत्र के माड़ीपुर-पावर हॉउस चौक  बन्द किया गया था. इस बीच राहगीरों के साथ बदसलूकी की जा रही थी. उनके साथ नोकझोक किया जा रहा था. बाइक सवार ने जब उनके बन्द का विरोध किया तो वे लोग इनके साथ कथित रूप से मारपीट करने लगे और उनकी बाइक क्षतिग्रस्त करने का प्रयास किया.
मुजफ्फरपुर के माड़ीपुर में बंद के दौरान राहगीरों के साथ हुई मारपीट

मुजफ्फरपुर: किसान कानून के खिलाफ आंदोलन दिन ढलने के साथ परवान पर था. इस दौरान काजी मोहम्मदपुर थाना क्षेत्र के माड़ीपुर-पावर हॉउस चौक को भी बन्द किया गया था. इस बीच यहां से गुजरने वाले राहगीरों के साथ बदसलूकी की जा रही थी. उनके साथ नोकझोक किया जा रहा था. एक बाइक सवार ने जब उनके बन्द का विरोध किया तो वे लोग इनके साथ कथित रूप से मारपीट करने लगे और उनकी बाइक क्षतिग्रस्त करने का प्रयास किया. सूचना पर पहुंची काजी मोहम्मदपुर पुलिस ने युवक को बंद समर्थकों के गोल से बाहर निकला व उसे माड़ीपुर चौक से रवाना किया. 

माड़ीपुर चौक पर तैनात जमादार महादेवपाल ने बताया कि जाम में फंसे होने की वजह से राहगीर व समर्थक में नोकझोक हुई है. फिर युवक को वहां से निकल दिया गया है. उन्होने ने किसी भी तरह की मारपीट की घटना से इंकार किया, पूछने पर कि वो कौन लोग हैं, जिनके हाथों में लाठी-डंडा है, इसपर उन्होने ने कहा कि वो इलाक़े के छोटे-छोटे बच्चे हैं. हमने उनको खदेड़ दिया है , अब वो किसी भी राहगीर को परेशान नहीं करेंगे. माहौल सामान्य है. पुलिस सुरक्षा में मौजूद है.

मुजफ्फरपुर के माड़ीपुर में बंद के दौरान राहगीरों के साथ हुई मारपीट

 BJP नेता सुशील मोदी बिहार से राज्यसभा पहुंचे, लालू यादव के रिकॉर्ड की बराबरी की

मालूम हो कि मंगलवार को किसान कानून के विरोध में किसानों ने आज भारत बन्द का ऐलान किया था. जिसके समर्थन में आज देशभर की विपक्षी पार्टियां भी शमिल हुई थी. मुजफ्फरपुर में भी सभी प्रमुख चौराहों व एनएच पर बन्द समर्थक घरना प्रदर्शन कर रहें है. बन्द समर्थकों ने बिहार में कई जगह रेल रोकी छिट फुट घटनाए सामने आई लेकिन को अपरिहार्य घटना नहीं घटी.

मुजफ्फरपुर के माड़ीपुर में बंद के दौरान राहगीरों के साथ हुई मारपीट

मुजफ्फरपुर: बारात से आते समय कार में लगी आग, बाल-बाल बचे दो युवक

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें