पटना-जयनगर इंटरसिटी को नहीं मिल रहे यात्री, इस कारण पटरी पर खाली दौड़ रही ट्रेन

Pallawi Kumari, Published on: Thu, 16th Sep 2021, 10:19 AM IST
पटना-जयनगर इंटरसिटी एक्सप्रेस. फोटो साभार-हिन्दुस्तान

कोरोना लहर सुस्त पड़ने के बाद हाल ही में भारतीय रेल यातायात भी पटरी पर लौट रही है. इस दौरान कई जोड़ी ट्रेनें एक-एक करके फिर से चलनी लगी. जिन ट्रेनों का परिचालन कोरोना के दौरान बंद था उन्हें भी यात्रियों की सुविधा के लिए फिर से शुरू किया गया. इसी क्रम में मधुबनी, दरभंगा, समस्तीपुर और मुजफ्फरपुर को जोड़ने वाली इकलौती इंटरसिटी एक्सप्रेस पटना-जयपुर का परिचालन भी शुरू किया. यात्री मुजफ्फरपुर से पटना के बीच ट्रेनें चलने से काफी उत्साहित थे.  

लेकिन अब हालत ऐसी है कि इस ट्रेन को यात्री नहीं मिल रहे, जिस कारण ट्रेन अकेली ही पटरी पर दौड़ रही है. मुश्किल से ट्रेन में 5-10 प्रतिशत यात्री ही सफर कर रहे हैं. इसका कारण यात्रा में लगने वाला अधिक समय और कियारा बताया जा रहा है. दरअसल जयनगर से पटना जाने के लिए इस ट्रेन में यात्रियों को आठ घंटे का समय लगता है. वहीं मुजफ्फरपुर और पटना के बीच यात्रा के लिए चार घंटे का समय लग जाता है. इसी रूट पर बस से यात्रा करने पर यात्रियों को आधा समय बचता है. ऐसे में दोगुने समय खर्च होने के कारण भी इस ट्रेन में यात्रियों की संख्या कम हो रही है.

योगी सरकार का आदेश, इन दो महीनों में रिटायर होने वाले कर्मचारियों को नहीं मिलेगा वेतनवृद्धि का लाभ

वहीं दूसरी ओर बात करें ट्रेन के किराए की तो,सामान्य चेयर कार में मुजफ्फरपुर से पटना जाने के लिए 135 रुपये और एसी चेयर कार के लिए 515 रुपये देने पड़ते हैं, जबकि सरकरी बस से मुजफ्फरपुर से पटना जाने के लिए यात्रियों को 113 से 158 रुपये देने पड़ते हैं. वहीं अधिक किराया लगने के साथ साथ आरक्षित सीटों के कारण भी इस ट्रेन में यात्री कम हो रहे हैं. दरअसल ट्रेन में यात्रा करने के लिए पहले से ही टिकट बुक करानी पड़ती है.

समस्तीपुर रेल मंडल के सीनियर डीसीएस सरस्वती चंद्र ने बताया कि, पटना-जयनगर इंटरसिटी के लिए यात्री नहीं जुट रहे. ट्रेन का कियारा व समय आदि का निर्णय बोर्ड के स्तर से किया जाता है. ट्रेन के समय और अन्य चीजों पर सुधार के लिए जरूरी कदम उठाया जाएगा.

SC के आदेश के बाद यूपी में किन्नर कल्याण बोर्ड का गठन, समाज कल्याण मंत्री की अध्यक्षता में बने 23 सदस्यीय बोर्ड

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें