मुजफ्फपुर: हथौड़ी में जमीन विवाद पर पुलिस पर हमला, एक पुलिसकर्मी सहित 4 घायल

Smart News Team, Last updated: 20/11/2020 12:10 PM IST
  • जमीनी विवाद में दो गुटो आपस में भीड़ गये. दोनो को समझाने पहुंची पुलिस पर लोगों ने हमला कर दिया. जिसमें थानेदार सहित 4 लोग घायल हो गये. 
जमीनी विवाद में दो गुट आपस में भीड़े

मुजफ्फरपुर: नरमा पूर्वी टोला क्षेत्र में जमीन विवाद को लेकर दो गुट आपस में भीड़ गये. मामले को सुलझाने गई पुलिस पर एक पक्ष ने हमला कर दिया. भीड़ ने पुलिस पर जमकर पत्थरबाजी की जिसमें एक पुलिस कर्मी सहित 4 लोग घायल हो गये. पुलिस ने भीड़ को काबू करने के लिए फायरिंग करनी पड़ी. इस मामले में पुलिस ने चार उपद्रवियों को गिरफ्तार किया. पुलिस के अनुसार फिलहाल गांव में स्थिति काबू में है. तनाव के कारण पुलिस गांव में कैप कर रही है. यह विवाद पिता, पुत्र के द्वारा एक ही जमीन को दो अलग-अलग लोगों को बेचने पर हुआ है.

डीसीपी ईस्ट मनोज पांडेण्य ने बताया कि हथौड़ा थाना के पूर्वी टोला के विश्वमोहन शर्मा और विरेंदश्वर शर्मा के बीच जमीन विवाद चल रहा था. विरेंदश्वर शर्मा अपने साथियों सहित विश्वमोहन शर्मा के जमीन की दिवारी को तोड़ने पहुंचे थे. मामले की सूचना पर पहुंची पुलिस दो पक्षो को समझाने का प्रयास कर रही थी. इतने में विरेंदश्वर शर्मा और उनके समर्थकों ने पुलिस पर हमला कर दिया. इसमें एक पुलिस कर्मी सहित दो चौकीदार और एक जमादार घायल हो गये. सूचना पर डीसीपी ईस्ट मनोज पांडेण्य जिले से भारी पुलिस बल लेकर मौके पर पहुंचे. पुलिसबल ने उपद्रवियों को घटना स्थल से खदैड़ दिया.

नई सरकार के पहले विधानसभा सत्र के लिए जीतन राम मांझी बने प्रोटेम स्पीकर

 

जानकारी के अनुसार, मामलो को शान्त तराने पहुंची पुलिस में हमला हुआ. उपद्रवियों ने थानेदार को घेर लिया और उनपर लाठी ड़डे से हमला करने लगें. इसी दौरान थानेदार ने आत्मरक्षा के लिए एक राउण्ड फायरिंग कर दी. जिसके बाद भीड़ वहा से हट गयी जिसके पुलिस कर्मी वहां से निकल गये. इसके बाद दूसरी टीम को लेकर डीसीपी मौके पर पहुंचे और लोगों के दौड़ा दौड़ा कर पीटा व चार उपद्रवियों को गिरफ्तार कर लिया गया.

गोवा की पूर्व गर्वनर मृदुला सिन्हा का निधन, मुजफ्फरपुर में शोक की लहर

 

कया था जमीन विवाद

नरमा के भुवनेश्वर शर्मा ने चार डिसमिल जमीन विश्वमोहन शर्मा को चार बर्ष पहले रजिस्ट्री की थी. जिसपर विश्वमोहन शर्मा का कब्जा है. उसी वक्त जमीन को भुवनेश्वर शर्मा के पुत्र ने विंदेश्वर शर्मा को बेच दिया था. इसके बाद विश्वमोहन शर्मा और विंदेश्वर शर्मा के बीच विवाद होने लगा था.

सुशील मोदी BJP के कम और नीतीश के ज्यादा सहयोगी थे, इसलिए कटा पत्ता: शिवानंद

सुशील मोदी के बाद नंद किशोर यादव, प्रेम कुमार की भी छुट्टी, मंत्री नहीं बनाए गए

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें