कबाड़ दुकान में पुलिस का छापा, मिली 1 हजार बोतलों में होनी थी नकली शराब की रिफिल

Smart News Team, Last updated: 02/12/2020 11:04 PM IST
मुजफ्फरपुर पुलिस ने शहर की एक शराब दुकान में छापेमारी की. इस दौरान मौके से पुलिस को एक हजार खाली बोतल मिली. जिसमें नकली शराब की रिफिलिंग होने वाली थी.
बिहार  पुलिस ने नकली शराब का भंडाफोड़ किया.

मुजफ्फरपुर: शहर में ब्रह्मपुर पुलिस ने एसपी सिटी की गठित टीम ने डीेेएसपी की अगुवाई में बैरिया में स्थित कबाड़ दुकान में बुधवार को छापेमारी की. इस दौरान पुलिस पुलिस को मौके पर एक हज़ार से अधिक बोतल मिली. आपको बता दें कि पुलिस की छापेमारी के बारे में वहां काम कर रहे लोगों को भनक लग चुकी थी, जिसके चलते वे सभी भाग गए. इस केस में ब्रह्मपुर थाने में पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है. वहीं, नगर डीएसपी ने कबाड़ दुकान भी सील करवा दी थी. पुलिस अफसर ने बताया कि इन बोतलों में नकली शराब बेचने की तैयारी चल रही थी.

इस औचक छापेमारी पर एसपी सिटी राजेश कुमार ने बताया कि बोचहां पुलिस ने मंगलवार को एक शराब माफिया को पकड़ा था. उसी के द्वारा मिली जानकारी के आधार पर पुलिस ने इस छापेमारी को अंजाम दिया. पुलिस को कार्रवाई में एसिड और कई चीज़ों के रैपर भी मिले. मिली शराब की बोतल को एसिड से साफ किया गया था. इन्हें काफी सुरक्षित स्थान पर रखा गया था. इसके साथ ही सैकड़ों की संख्या में गंदी बोतलों के लिए शराब माफियाओं ने दारू की रिफिलिंग के लिए कबाड़ दुकानदार को ऑर्डर दिया था.

RJD चुनाव नतीजा कमिटी पता करेगी- सरकार बना रहे तेजस्वी विपक्ष में कैसे लटक गए

कबाड़ दुकानदार की गिरफ्तारी के लिए एसपी सिटी राजेश कुमार ने एक विशेष टीम का गठन किया था. जिसकी मॉनिटरिंग वो खुद कर रहे हैं. साथ ही इसका नेतृत्व डीएसपी रामनरेश पासवान कर रहे हैं. अधिकारी के मुताबिक, ब्रह्मपुर थाने की पुलिस बैरिया स्थित कबाड़ दुकान की छापेमारी पहले भी कर चुकी है. जिसमें पुलिस को कई विदेशी शराब के कार्टन भी मिले थे. वहीं, सूत्रों की मानें तो दुकानदार मजदूरों को 150 से 200 रुपये रोजाना मेहनताना देता था. वह उनसे बोतल साफ करवाता था जिसके लिए दुकानदार ने 15 से 20 मजदुर रखे हुए थे.

बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ के अध्यक्ष सुबोध मेहता ने छोड़ी उपेन्द्र कुशवाहा की रालोसपा

बिहार: राहत! प्राइवेट लैब में कोविड-19 के RT-PCR जांच हुआ सस्ता, जानें नए रेट

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें