स्वास्थ्य प्रधान सचिव ने कहा-जब तक वैक्सीनेशन नहीं तब होगी कोरोना की जांच

Smart News Team, Last updated: Fri, 18th Dec 2020, 11:56 PM IST
  • बिहार स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव ने राज्य के सभी जिलों के सिविल सर्जन और मेडिकल कॉलेजेस को निर्देश दिया है कि जब तक वैक्सीनेशन शुरू नहीं हो जाता है तब तक कोनो की जाँच होती रहनी चाहिए.
स्वास्थ्य प्रधान सचिव ने दिए निर्देश वैक्सीनेशन तक कोरोना को जाँच होती रहनी चाहिए

मुजफ्फरपुर. बिहार स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने गुरुवार को सभी प्रदेश के सभी जिलों को कोरोना की जांच जारी रखने का निर्देश दिया है. उन्होंने ने कहा कि जब तक वैक्सिनेशन शुरू नही हो जाता है तब तक सभी सिविल सर्जन और मेडिकल कोरोना की जांच करते रहेंगे. राज्य में सभी संदिग्धों की जांच वैक्सीन आने तक जारी रहेगी. वहीं उन्होंने ने आरटीपीसीआर की जांच को बढ़ाने का आदेश दिया है वहीं रोजाना के अप्डेट्स भी मांगे है.

प्रधान सचिव ने सभी को साफ निर्देश दिया कि कोरोना जांच के प्रति लापरवाही एकदम नहीं किया जाय. जब तक वैक्सिनेशन शुरू नहीं हो जाता है तब कोरोना संक्रमण के जांच चलते रहने चाहिए. साथ ही उन्होंने सभी सिविल सर्जनों को अपने जिलों में अधिक से अधिक कोरोना जांच करने के आदेश दिया. वहीं रोज सभी जिलों को अपनी रिपोर्ट विभाग के पोर्टल पर अपलोड भी करना होगा. इसकी पुष्टि मुजफ्फरपुर के सिविज सर्जन डॉ शैलेंद्र प्रसाद ने किया और उन्होंने बताया कि मुजफ्फरपुर में रोजाना पांच हजार संदिग्धों की कोरोना जांच किया जा रहा है.

प्रेम में फंसाकर लड़की को भगाया फिर चतुर्भुज स्थान पर कोठे में 8 हजार में बेचा

बिहार में वैक्सीन के रखरखाव और वितरण प्रबंधन की तैयारी को लेकर रोज मोनिटरिंग किया जा रहा है और इसे स्वास्थ्य मुख्यालय मोनिटरिंग कर रहा है. प्रति दिन की प्रगति रिपोर्ट स्वास्थ्य मुख्यालय जिलों से ले रहा है. मुजफ्फरपुर में 57 लाख वैक्सीन रखने की तैयारी किया गया है. अभी तक 23 लाख वैक्सीन रखने के लिए जगहों को चुना भी जा चुका है.

नेशनल हेल्थ सर्वे में बड़ा खुलासा, शराबबंदी में भी 15% बिहारी पी रहे दारू

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें