मुजफ्फरपुर जहरीली शराब कांड में खुलासा, मिथाइल अल्कोहल का हुआ था इस्तेमाल

Indrajeet kumar, Last updated: Tue, 9th Nov 2021, 1:44 PM IST
  • मुजफ्फरपुर जहरीली शराब हत्याकांड में जांच के बाद बड़ा खुलासा हुआ है. मुजफ्फरपुर, बेतिया और गोपालगंज में जहरीली शराब पीने से हुए मौत में एक समानता देखने को मिली है इन सभी जगहों के शराब में मिथाइल अल्कोहल का इस्तेमाल किया गया था. सरैया इलाके में जांच के लिए गई टीम को कुछ मिथाइल अल्कोहल के कुछ अवशेष मिले थे.
फाइल फोटो

मुजफ्फरपुर. मुजफ्फरपुर जहरीली शराब हत्याकांड में बड़ा खुलासा हुआ है. मुजफ्फरपुर, बेतिया और गोपालगंज में जहरीली शराब पीने से हुए मौत में एक समानता देखने को मिली है. इस सभी लोगों के शराब में मिथाइल अल्कोहल था. मुजफ्फरपुर की FSL की टीम ने बेतिया में जाकर जांच की तो पता चला कि शराब में मिथाइल अल्कोहल मिला था. वहीं गोपालगंज में भी शुरुआती जांच में पता लगा है कि शराब मे मिथाइल अल्कोहल मिलाया गया था. जिसके सेवन से कई लोगों की मौत हो गई थी. जिले के सरैया इलाके में जब टीम जांच करने गयी थी तो वहां से भी मिथाइल अल्कोहल के अवशेष मिले थे. इन सभी नमूनों को आगे की कार्रवाई के लिए सबूत के तौर पर सुरक्षित रख लिया गया है.

जहरीली शराब पीने से गोपालगंज में 20, बेतिया में 17 और मुजफ्फरपुर में 5 लोगों की मौत की आधिकारिक पुष्टि हुई थी. जबकि चर्चा है कि आधा दर्जन से अधिक लोगों के मौत का मामला दब गया. क्योंकि उनके परिवारवालों ने कार्रवाई के डर से अपना मुंह नहीं खोला और शव का अंतिम संस्कार भी पुलिस के पहुँचने से पहले ही कर दिया था. जीके वजह सर पुलिस को कई सबूत हाथ नहीं लग पाया. गौरतलब है कि सरैया में पांच की मौत के एक दिन बाद सकरा इलाके में भी दो लोगों की मौत हो गई. जिसके बाद पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था. लेकिन परिजनों ने मौत की वजह बीमारी बताई थी. फिलहाल पुलिस बेसरा रिपोर्ट का इंतज़ार कर रही है.

शराब माफियाओं के खिलाफ पुलिस का ऑपरेशन क्लीन, 13 धंधेबाज गिरफ्तार, नकली शराब जब्त

सरैया में पांच लोगों की मौत का मुख्य आरोपित अब भी फरार है. अब तक पुलिस को उसका कोई सुराग नहीं मिला है. इस मामले में पुलिस ने वार्ड सदस्य अमित कुमार समेत 11 लोगों को जेल भेज दिया है. लेकिन शराब बनाने के लिए पश्चिम बंगाल से कच्चा माल मंगाने वाला आरोपी अब भी फरार है. पुलिस ने उसके परिजनों पर हर तरह से दबाव बनाने कि कोशिश की लेकिन उसके बारे में कोई पुख्ता जानकारी नहीं मिल पाई है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें