मुजफ्फरपुर में लगती है सबसे सस्ती कपड़ों की दुकान, 100 रुपये में मिलेंगी 2 जींस

Smart News Team, Last updated: Fri, 26th Nov 2021, 2:09 PM IST
  • मुजफ्फरपुर के इम्लीचट्टी स्थित सरकारी बस स्टैंड के समीप पुराने कपड़ों का बाजार सजता है. यहां 5 से 100 रुपए तक के कपड़े मौजूद है. यहां सेकंड हैंड कपड़ों की दुकान 50 सालों से लग रही है.
शहर के इम्लीचट्टी स्थित सरकारी बस स्टैंड के समीप ये दुकान सेकंड हैंड कपड़ों से सजती है

मुजफ्फरपुर. कपड़े पहनना या खरीदना किसे पसंद नहीं होता है. शॉपिंग पर जाने की सोच कर ही हर किसी का मन खुश हो जाता है. शॉपिंग करने से पहले हर कोई 10 मार्केट छानता हैं, लेकिन क्या आप ऐसी मार्केट के बारें में जानते हैं जो सबसे सस्ती है. मुजफ्फरपुर जिले में एक ऐसी ही मार्केट लगती है जो सबसे सस्ती है. आपको यकीन करना मुश्किल होगा कि यहां 5 रुपये से लेकर 100 रुपये तक के कपड़े मौजूद है. दरअसल यहां सेकंड हैंड कपड़ों की दुकान लगती है.

शहर के इम्लीचट्टी स्थित सरकारी बस स्टैंड के समीप ये दुकान सेकंड हैंड कपड़ों से सजती है. यहां हर तरह के पुराने कपड़े मिल जाते है. 5 रुपये से लेकर 100 रुपये तक के कपड़े यहां मौजूद है. खास बात यह है कि यहां हर वर्ग के लोगों के लिए कपड़े मौजूद है.

पटना की पहली महिला कैब ड्राइवर बनी 34 वर्षीय अर्चना पांडे

यहां गुजराती दुकानदारों की बड़ी मार्केट लगती है. इन लोगों के मुताबिक सालों से ये लोग यहां दुकान लगाते आ रहे है. खास बात यह है कि 50 सालों से अधिक समय से यहां दुकाने सजती है. इसमें महिला भी शामिल है. पुराने कपड़ों को बेचकर ये अपना परिवार भी चलाते आ रहे है.

ये लोग नए बर्तन देकर घरों से पुराने कपड़े लेते हैं. ऐसे कई परिवार है जो पुराने कपड़े बेचकर नए बर्तन लेते है. 4 जोड़े पुराने कपड़े पर एक थाली व ग्लास मिल जाता है. बताया जाता है कि इसी तरह हर मोहल्ले में घूमकर वे पुराने कपड़े एकत्र करती है. फिर, उन्हें घर लाकर साफ सफाई करती है. आयरन कर कपड़ों को चमकाती है। इसके बाद अगले दिन कपड़ों को बाजार में रखती है.

Video: पटना की सड़कों पर जीप चलाते दिखे राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद

जानकारी के मुताबिक यहां बच्चों के शर्ट 5 रुपये तक में मिल जाते है. जीन्स 100 रुपये में दो तक मिल जाती है. सर्दियों में जैकेट व ब्लेजर तक सस्ते दामो में मिलते है. यहां रिकशे वाले से लेकर हर वर्ग के लोग पहुंचते है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें