मुजफ्फरपुर: बूढ़ी गंडक में नहाने गए 6 बच्चे डूबे, 4 को बचाया, दो लापता

Prince Sonker, Last updated: Sun, 10th Oct 2021, 7:47 PM IST
  • बूढ़ी गंडक में नहाते वक़्त छह बच्चे डूब गए. नदी के बाहर खड़े दोस्तों के चिल्लाने पर स्थानीय गोताखोरों ने चार को नदी से सुरक्षित निकाल लिया जबकि दो लापता हैं.
हादसे की खबर सुनकर विलाप करते परिजन 

मुजफ्फरपुर. अहियापुर थानाक्षेत्र के बड़ा जगन्नाथ पंचायत के भगवतीपुर गांव में शनिवार की शाम बूढ़ी गंडक नदी में नहाने के दौरान छह बच्चे डूब गए. बच्चों के चीखने-चिल्लाने पर स्थानीय गोताखोरों ने मौके पर पहुंचकर चार को सुरक्षित निकाल लिया. गहरे पानी मे जाने की वजह से दो बच्चे अभी भी लापता हैं. घटना की जानकारी मिलते ही नदी किनारे लोग की भारी भीड़ जमा हो गई. एनडीआरएफ की टीम देर रात तक नदी में लापता बच्चों की तलाश करती रही. लेकिन बच्चों का कुछ पता नहीं चल सका.

लापता बच्चों की पहचान उमेश राय के 12 वर्षीय पुत्र प्रशांत कुमार और श्रीनाथ राय के पुत्र सन्नी कुमार के रूप में कई गई है. वहीं राजू सहनी का पुत्र विकास कुमार (13) रामू सहनी का पुत्र रौशन कुमार (14), संजीव कुमार (12) और त्रिवेणी सहनी का पुत्र रौशन कुमार (13) को सुरक्षित बचा लिया गया है. स्थानीय गोताखोरों, एसडीआरएफ के साथ ही दारोगा चंद्रकिशोर मंडल के नेतृत्व में पुलिस टीम देर शाम तक नदी में बच्चों की खोजबीन करती रही लेकिन अंधेरा अधिक होने से बच्चों का पता नहीं लग पाया. अहियापुर थाने के दारोगा चंद्रकिशोर मंडल ने बताया कि अबतक कुछ पता नहीं चल सका है. परिजनों के बयान पर आगे की कार्रवाई की जाएगी.

मुजफ्फरपुर में युवती की बेरहमी से हत्या, नदी किनारे कई टुकड़ों में मिली सिर कटी लाश

मिली जानकारी के अनुसार, भगवतीपुर गांव में शनिवार की शाम 10 बच्चे बूढ़ी गंडक नदी किनारे खेल रहे थे. इसी दौरान छह बच्चे नदी में नहाने चले गये. नदी में नहाने के दौरान सभी छह बच्चे गहरे पानी में जाने के कारण डूबने लगे. उन्हें डूबते देख नदी के किनारे खड़े चार दोस्त ने शोर मचाया. आवाज सुनकर आसपास के लोग और स्थानीय गोताखोर पहुंच गए. गोताखोरों ने चार बच्चों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया, जबकि दो बच्चों का पता नहीं चल पाया. हादसे की खबर सुनते ही प्रशांत की मां रोते हुए नदी किनारे पहुंची. बेटे के कपड़े देखते ही वह बेहोश हो गईं. उधर सन्नी की मां का भी रो-रो कर बुरा हाल है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें