खादी ग्रामोद्योग आयोग की परंपरागत पेशा मजबूत करने की कवायद, इलेक्ट्रिक चॉक बांटे

Smart News Team, Last updated: Sun, 7th Mar 2021, 5:10 PM IST
  • जिले में गरीबों, महिलाओं और युवाओं को रोजगार प्रदान के लिए जिला खादी ग्रामोद्योग को बढ़ावा दिया जा रहा है. इसी के तहत सरकार की ओर से 10 दिनों के प्रशिक्षण के उपरांत 60 कुम्हकारों को चाक वितरित किए गए.
सांकेतिक तस्वीर

मुजफ्फरपुर. कुम्हकार सशक्तीकरण योजना के तहत खादी ग्रामोद्योग आयोग की ओर से इस परंपरागत पेशे को मजबूत करने की कवायद की जा रही है. योजना के तहत ही जिले के 60 कुम्हकारों को जिला खाद्यी संघ परिसर में 10 दिन के प्रशिक्षण कैंप में ट्रेनिंग दी गई और अब उन्हें इलेक्ट्रॉनिक चॉक बांटे गए. प्रशासनिक अधिकारियों के मुताबिक रोजगार के अवसर पैदा करने के लिए इस तरह के प्रशिक्षण कैंप आगे भी आयोजित किए जाएंगे और युवाओं को भी इसमें आधुनिक तकनीकों से अवगत कराया जाएगा.

इस दौरान आयोजित प्रोग्राम में नगर विकास और आवास मंत्री सुरेश शर्मा ने कहा कि कुम्हकार समाज के लोगों को योजना के तहत दिए गए प्रशिक्षण से अपने परंपरागत पेशे को आधुनिक तरीके से मजबूत करने के लिए बल मिलेगा. उन्हें कम समय में ज्यादा उत्पादन करने की नवीनतम विधियों से परिचित करवाया जा रहा है. राज्य निदेशक बीएस बागुल ने प्रोग्राम को संबोधित करते हुए कहा कि जल्द ही जिले में कूकर व अन्य बर्तन तैयार करने वाला चाक भी दिया जाएगा.

मुजफ्फरपुर जहरीली शराब कांड के मुख्य आरोपी की मौत, पत्नी समेत एक पर हत्या का केस

उन्होंने खादी ग्रामोद्योग की पहल की सराहना करते हुए कहा कि कुम्हाकार सशक्तिकरण योजना के तहत परंपरागत पेशे को मजबूती मिलेगी. इस दौरान 60 कुम्हकारों को जिन्होंने प्रशिक्षण हासिल किया था चाक आयोग की ओर से वितरण किया गया. जिला खादी ग्रामोद्योग संघ के अध्यक्ष बीरेंद्र कुमार ने कहा कि वह गरीबों महिलाओं और युवाओं को रोजगार प्रदान करने के लिए लगातार खादी व ग्रामोद्योग को प्रोत्साहित करने का काम करते रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें