मुजफ्फरपुर आई अस्पताल में ऑपरेशन के बाद 26 लोगों की आंखो की रौशनी गई, जांच शुरू

Nawab Ali, Last updated: Tue, 30th Nov 2021, 10:21 AM IST
  • मुजफ्फरपुर के आई अस्पताल में आंखों के ऑपरेशन के बाद 26 लोगों की आंखों की रौशनी चली गई है. ऑपरेशन के बाद मरीजों की आंखों में संक्रमण फैल गया है जिस वजह से कई मरीजों की आंखें भी निकालनी पड़ सकती है.
मुजफ्फरपुर में आंखों के ऑपरेशन के बाद 26 लोगों की आँखों की रौशनी चली गई. सांकेतिक फोटो

 

मुजफ्फरपुर. बिहार के मुजफ्फरपुर स्थित आई अस्पताल में 26 लोगों की आंखों के ऑपरेशन के बाद रौशनी चले जाने के बाद हडकंप मच गया है. ट्रस्ट से संचालित अस्पताल में एक ही तारिख को 60 मरीजों की आंखों का इलाज हुआ था लेकिन इनमें से 26 लोगों की आंखों में इन्फेक्शन होने के कारण आंखों की रोशिनी चली गई. मामले की गंभीरता को देखते हुए डीएम मुजफ्फरपुर प्रणव कुमार ने कहा है कि सिविल सर्जन को मामले की जांच का रिपोर्ट देने को कहा गया है. जांच रिपोर्ट आने के बाद कठोर कार्रवाई की जाएगी.

सिविल सर्जन डॉ विनय कुमार शर्मा ने बताया है कि मामले में तीन सदस्यीय टीम का गठन किया गया है. सभी का ऑपरेशन एक ही तारिख को हुआ था जिसके बाद कई मरीजों में इंफेक्शन की शिकायत होने के बाद एसकेएमसीएच में रेफर कराकर इलाज शुरू कराया गया है. वहीं आई अस्पताल के सचिव दिलीप जालान का कहना है कि कई मरीजों की आंखों की रौशनी का मामला सामने आया है. और आंखों में संक्रमण बढ़ने के कारण छह मरीजों की अनाखें निकालनी पड़ सकती है. पीड़ितों की आंखों की रौशनी जाने पर परिजनों में भी आक्रोश बढ़ता जा रहा है. परिजनों ने लिखित शिकायत में सीएस से मुआवजे की मांग की है.

निजी सचिव पर निगरानी रेड के बाद नीतीश के खनन मंत्री जनक राम ने पीएस को हटाया

वहीं आईअस्पताल में मरीजों का ऑपरेशन किस डॉक्टर ने किया है यह अभी रहस्य बना हुआ है. जिन मरीजों का ऑपरेशन हुआ है उनके पर्चे पर एनडीएस लिखा हुआ है. लेकिन एनडी साहू ने मरीजों की आंखों का ऑपरेशन करने से इंकार किया है, उनका कहना है कि उन्होंने साल 2015 में मुजफ्फरपुर आई अस्पताल छोड़ दिया था और अब उस अस्पताल से उनका कोई संबंध नहीं. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें