दुकान फूंकने पर बवाल, पुलिस पर हमला, लाठीचार्ज, कई पुलिसकर्मी-गांव वाले घायल

Smart News Team, Last updated: 09/10/2020 12:12 PM IST
मुजफ्फरपुर के प्रयागबारी में गुरुवार को बवाल हुआ. यह इसलिए क्योंकि छेड़खानी पीड़िता के पिता दुकान जला दी गई. इस कारण गांव के लोगों ने विरोध कर सड़क जाम कर दी. इस दौरान पुलिस और ग्रामीणों में झड़प हो गई. गांव के लोगों ने पुलिस पर पत्थरबाजी कर दी जिसके जवाब में पुलिस ने भी लोगों पर लाठीचार्ज कर दिया.
प्रयागबारी में गांव के लोगों पर लाठीचार्ज करती पुलिस

मुजफ्फरपुर. मुजफ्फरपुर के गायघाट और हथौड़ी थाना की सीमा पर स्थित प्रयागबारी में गुरुवार को बवाल हुआ. यह इसलिए क्योंकि छेड़खानी की पीड़िता के पिता दुकान जला दी गई. इस कारण गांव के लोगों ने विरोध कर रोड़ जाम कर दिया. इस दौरान पुलिस और ग्रामीणों में झड़प हो गई. गांव के लोगों ने पुलिस पर पत्थरबाजी कर दी जिसके जवाब में पुलिस ने भी लोगों पर लाठीचार्ज कर दिया.

इस लाठीचार्ज के कारण दर्जनों से अधिक गांव के लोगों को चोट लग गई और वहीं दूसरी ओर भी गायघाट थानाध्यक्ष सहित सात पुलिस वाले भी घायल हो गए. इनमें अद्धसैनिक बल के भी जवान शामिल हैं. यह बवाल करीब छह घंटे तक चला. इनमें पुलिस ने 25 महिला-पुरुष को हिरासत में लिया है. 

मुजफ्फरपुर: अपराधी बेलगाम! मनियारी थाने के चौकीदार मो. जैद की गोली मारकर हत्या

इस मामले में गायघाट थानाध्यक्ष ने कहा कि गांव के दो पक्षों ने एक दूसरे के खिलाफ एफआईआर पहले करवा चुके हैं. गायघाट थाने में छेड़खानी का तो दूसरे पक्ष ने हथौड़ी थाने में केस करा था. छेड़खानी के मामले की जांच आईओ आशा देवी कर रही है. अभी तक जांच-पड़ताल पूरी नहीं हुई है. इन सबके के बीच ही बुधवार की रात को छेड़खानी पीड़िता के पिता की जेनरल की दुकान फुंक दी गई. इससे गुस्सा हुए गांव वाले लोगों दूसरे पक्ष पर इसका आरोप लगाते हुए सड़क जाम कर‌ दी. इनको समझाने गई पुलिस पर हमला कर दिया गया जिससे कि पुलिसकर्मी घायल हो गए. पुलिस ने भी सख्ती दिखाते हुए लोगों को खदेड़ दिया. हिरासत में लिए गए 25 महिला-पुरुष से बोचहां थाने में पूछताछ चल रही है. इस पर गांव के लोगों का कहना पुलिस एकपक्षीय कार्रवाई कर रही है. लाठीचार्ज कर घरों से निकालकर महिलाओं को भी पीटा गया है.

नवरूणा कांड: फाइनल रिपोर्ट के लिए CBI ने सुप्रीम कोर्ट से मांगा 2 महीने का समय

मामला क्या है- पिछले महीने छेड़खानी की घटना हुई थी. इसको लेकर दो एक दूसरे के खिलाफ एफआईआर की थी. जिसमें कि एक केस में पाॅस्को एक्ट और दूसरे में हत्या के प्रयास की धारा लगी थी. पीड़िता पक्ष का कहना कि पुलिस ने एफआईआर के बाद कोई कार्रवाई नहीं की.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें