अक्षत मौत में जीरो एफआईआर दर्ज, मुंबई जाएगी मुजफ्फरपुर पुलिस

Smart News Team, Last updated: 03/10/2020 07:45 PM IST
  • मुजफ्फरपुर के उभरते हुए एक्टर अक्षत उत्कर्ष की हाल ही में मुंबई में संदिग्ध अवस्था में मौत हो गई. इस मामले में नगर थाने की पुलिस ने शनिवार को जीरो एफआईआर दर्ज कर ली है. 
क्या एक्टर अक्षत उत्कर्ष की मुंबई में मौत केस में सुशांत की तरह मुजफ्फरपुर में FIR होगा ?

मुजफ्फरपुर. शहर के उभरते एक्टर अक्षत उत्कर्ष मौत मामले में नगर थाने की पुलिस ने शनिवार को जीरो एफआईआर दर्ज कर ली है. इसमें फ्लैटमेट स्नेहा चौहान, उसकी बहन और अन्य को आरोपित करार दिया गया है. इन पर साजिशन शादी करने से इंकार करने के बदले हत्या करने का आरोप लगाया गया है. केस की जांच 2009 बैच के दारोगा व अपर थानेदार अनुसंधान ईकाई रवि कुमार गुप्ता करेंगे. रवि कुमार आईजी से अनुमति लेकर मुंबई जाकर जांच पड़ताल करेंगे. फिलहाल आईओ मामले से संबंधित कागजी प्रक्रिया को पूरा करने में जुटे हैं. वहीं 5 अक्टूबर को को आईजी कार्यालय में मुंबई जाने को लेकर आवेदन एसएसपी के माध्यम से दिया जाएगा.

एक अक्टूबर को एक्टर अक्षत उत्कर्ष के मुंबई में मौत को लेकर नगर थानेदार को आवेदन सौंपा था. इसके बाद वरीय पुलिस अधिकारियों से जानकारी मिलने के बाद नगर थानेदार ओमप्रकाश ने नगर थाने में जीरो एफआईआर दर्ज कर ली है. दारोगा रवि गुप्ता बहुत जल्द जीरो एफआईआर लेकर मुंबई के अंबोली थाना जाएंगे. सिटी एसपी राजेश कुमार ने बताया कि मामले में जीरो एफआरईआर दर्ज कर ली गई है. आगे की जांच के लिए आवेदन को मुंबई भेजा जाएगा.

एक्टर अक्षत की मुंबई में मौत केस में क्या सुशांत की तरह मुजफ्फरपुर में FIR होगी?

क्या होती है जीरो एफआईआर

हर पुलिस स्टेशन का एक अधिकार क्षेत्र होता है. जीरो एफआईआर यह सुविधा देती है कि अगर आप अपने इलाके के पुलिस स्टेशन में नहीं पहुंच पा रहे हैं तो जीरो एफआईआर के तहत नजदीकी पुलिस स्टेशन में केस दर्ज करवा सकते हैं.
जीरो एफआईआर दर्ज करने के लिए इस बात से मतलब नहीं होता कि क्राइम कहां हुआ है? इसमें सबसे पहले रिपोर्ट दर्ज की जाती है. इसके बाद संबंधित थाना जिस क्षेत्र में घटना हुई है, वहां के ज्युरिडिक्शन वाले पुलिस स्टेशन में एफआईआर को फॉरवर्ड कर देते हैं. यह प्रावधान सभी के लिए किया गया है.

अक्षत उत्कर्ष के पिता ने रूममेट और महिला मित्र पर जताया हत्या का शक

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें