बसंत पंचमी पर मिलेगी मां सरस्वती की कृपा, राशि के अनुसार करें मंत्रों का जाप

Pallawi Kumari, Last updated: Thu, 3rd Feb 2022, 5:21 PM IST
  • शनिवार 5 फरवरी 2022 को देशभर में बसंत पंचमी का त्योहार मनाया जाएगा. इस दिन मां सरस्वती की पूजा की जाती है. मां आपकी पूजा से प्रसन्न होकर विद्या, बुद्धि और ज्ञान का आशीर्वाद देती है. इस दिन पूजा में अगर आप अपनी राशि के अनुसार मां सरस्वती के मंत्रों का जाप करते हैं तो आपको विशेष कृपा प्राप्त होगी.
मां सरस्वती (फोटो-लाइव हिन्दुस्तान)

हर साल माघ महीने की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि का दिन मां सरस्वती की पूजा के रूप में मनाया जाता है. इस दिन को मां सरस्वती के प्राकट्य दिवस के रूप में देशभर में सरस्वती पूजा का पर्व मनाया जाता है. हर साल की तरह इस बार भी सरस्वती पूजा की जाएगी और इसकी तैयारियां भी शुरू हो गई है. शनिवार 5 फरवरी 2022 को बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजा होगी.

वैसे तो सरस्वती मां की पूजा के लिए कई विधि और नियम होते हैं. वहीं इस दिन शुभ मुहूर्त में ही पूजा करने का विधान है. लेकिन अगर इस दिन आप पूजा में अपनी राशि के अनुसार मां के मंत्रों का जाप करते हैं तो आपको विशेष कृपा प्राप्त होती है.

स्टूडेंट्स के लिए खास है इस साल सरस्वती पूजा, बसंत पंचमी पर बन रहा त्रिवेणी योग

सरस्वती पूजा विधि-

बसंत पंचमी के दिन सुबह जल्दी उठें और स्नान करने के बाद पीले रंग के कपड़े पहनें. पीला रंग मां सरस्वती को प्रिय होता है. इसके बाद पूजा के लिए बैठे और सपहले चंदन और कुमकुम से मां सरस्वती का तिलक करें. फिर मां की प्रतिमा या फोटो के सामने धूप-दीप जलाएं. मां पीले फूल और फल अर्पित करें. मां के पास शिक्षा से जुड़ी चीजें जैसे कॉपी, किताब, कलम आदि चढ़ाएं. इन सब चीजों पर भी तिलक करें ,फूल चढ़ाएं और अक्षत रखकर मां के समक्ष रख दें. अब अपनी राशि के अनुसार मंत्रों का जाप करें और हाथ जोड़कर मां से क्षमा याचना करें. अंत में मां सरस्वती की आरती करें.

राशि के अनुसार ये हैं मंत्र-

मेष -ऊँ वाग्देवी वागीश्वरी नम:

वृषभ - ऊँ कौमुदी ज्ञानदायनी नम:

मिथुन- ऊँ मां भुवनेश्वरी सरस्वत्यै नम:

कर्क - ऊँ मां चन्द्रिका दैव्यै नम:

सिंह- ऊँ मां कमलहास विकासिनी नम:

कन्या - ऊँ मां प्रणवनाद विकासिनी नम:

तुला - ऊँ मां हंससुवाहिनी नम:

वृश्चिक- ऊँ शारदै दैव्यै चंद्रकांति नम:

धनु - ऊँ जगती वीणावादिनी नम:

मकर- ऊँ बुद्धिदात्री सुधामूर्ति नम:

कुंभ- ऊँ ज्ञानप्रकाशिनी ब्रह्मचारिणी नम:

मीन- ऊँ वरदायिनी मां भारती नम:

Vastu Tips: अगर आप भी बिस्तर पर करते हैं ऐसा काम तो हो जाएं सतर्क, ये आदत बना देगी कंगाल


 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें