मुजफ्फरपुर: कोरोना के लक्षणों में हुए बदलाव पर शोध करेंगे WHO व IMRI के विशेषज्ञ

Smart News Team, Last updated: 18/08/2020 12:45 PM IST
  • बिहार में कोरोना के बदलते लक्षणों और प्रभावों के कारण केंद्र सरकार एक सर्वे कराने जा रही है. इस सर्वे को डब्ल्यूएचओ और आईएमआरआई के विशेषज्ञ करेंगे. इसमें मुजफ्फरपुर समेत बिहार के 6 जिले शामिल हैं.
मुजफ्फरपुर: कोरोना के लक्षणों में हुए बदलाव पर शोध करेंगे WHO व IMRI के विशेषज्ञ

मुजफ्फरपुर. बिहार में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. इसके लिए केंद्र सरकार इसके बदलते लक्षणों और प्रभावों पर शोध करा रही है.हालांकि शोध के लिए राज्य में सर्वे का काम भी चल रहा है. इसके तहत केंद्र सरकार ने छह जिलों के 60 गांवों में नेशनल सिरो सर्वे कराने का आदेश भी दिया है. इसमें हर जिले के चार-चार पॉजिटिव लोगों के सैम्पल लिए जाएंगे.

बिहार में कोरोना के बदलते लक्षणों और प्रभावों पर शोध के दूरगामी परिणाम संभव हैं.इसलिए ही केंद्र सरकार ने बिहार में इसके लिए शोध कराने का आदेश दिया है. इस शोध के लिए मुजफ्फरपुर समेत मधुबनी, बेगूसराय,बक्सर, अरवल और पूर्णिया को चुना गया है. इन जिलों के 10 गांवों में सीरो सर्वे किया जाएगा. जिलों के गांवों से कम से कम 400 पॉजिटिव लोगों के सैंपल लिए जाएंगे. केंद्र सरकार के आदेश पर राज्य स्वास्थ्य समिति ने भी इसके लिए एडवाइजरी जारी कर दी है.

मुजफ्फरपुर: कोरोना की चेन तोड़ने को स्वास्थ्य विभाग चलाया बाजार में जांच अभियान

सर्वे में डब्ल्यूएचओ (विश्व स्वास्थ्य संगठन) के अलावा आरएमआरआई के सदस्य भी इसमें शामिल रहेंगे. इस सर्वे के लिए मुजफ्फरपुर, बेगूसराय, बक्सर व अरवल में 5 टीम और मधुबनी व पूर्णिया में 10 टीम तैनात की गई हैं. सर्वे में शामिल होने वाले दल के सदस्य पीपी किट में सुरक्षित रहते हुए पॉजिटिव लोगों के सैंपल्स की जांच करेंगे. उसके बाद सैंपल्स को शोध के लिए आरएमआरआई पटना भेजा जाएगा. 

मुजफ्फरपुर: कोरोना जांच में आई तेजी, एक दिन में 5000 से ज्यादा सैंपल की हुई जांच

इस शोध को करने के लिए लोगों के खून के सैंपल लिए जाएंगे. सैंपल सुरक्षित आईसीएमआर पहुंचे इसकी जिम्मेदारी जिला स्वास्थ्य समिति की होगी. राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनीष कुमार ने सभी सिविल सर्जन को निर्देश दिया है कि वे सर्वे की टीम का पूरा सहयोग करें और उन्हें सुरक्षा भी दें.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें