शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया में देरी,अब हाईस्कूलों में पढ़ाएंगे रिटायर शिक्षक

Smart News Team, Last updated: Thu, 11th Feb 2021, 12:22 PM IST
  • बच्चों की पढ़ाई प्रभावित ना हो इसके लिए शिक्षा विभाग की ओर से रिटायर शिक्षकों को बच्चों को पढ़ाने का अवसर दिया गया है. 32916 शिक्षकों की नियुक्ति होने तक ये रिटायर शिक्षक बच्चों को पढ़ा सकेंगे.
बिहार के स्कूलों में सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिलने पर बच्चे इसकी शिकायत संबंधित अधिकारी से कर सकेंगे.

मुजफ्फरपुर. कोरोना के चलते लंबे समय के अंतराल के बाद स्कूल खुलने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है लेकिन शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया में देरी के चलते अब हाईस्कूलों में रिटायर शिक्षक पढ़ाएंगे. इनकी बहाली कांट्रेक्ट पर होगी. 32916 शिक्षकों की बहाली तक यह व्यवस्था लागू रहेगी बच्चों की पढ़ाई प्रभावित ना हो इसे देखते हुए यह फैसला लिया गया है. गौर हो कि हाईस्कूलों के रूप में अपग्रेड हुए 2678 विद्यालयों में रिटायर शिक्षकों को संविदा के आधार पर रखा जाएगा. ये शिक्षक केंद्र और राज्य सरकार से रिटायर होंगे. इन्हें 900 रुपए प्रति क्लास के साथ एक महीने में अधिकतम 22500 रुपए दिए जाएंगे. इस संबंधी उप सचिव शिक्षा विभाग अरशद फिरोज की ओर से जानकारी दे दी गई है.

उल्लेखनीय है कि माध्यिक शिक्ष निदेशक गिरिवर दयाल सिंह ने तिरहुत प्रमंडल के क्षेत्रीय शिक्षा उप निदेशक को पत्र लिखकर कहा है कि शिवहर, वैशाली, मुजफ्फरपुर, पूर्वी चंपारण और पश्चिचम चंपारण की रिपोर्ट से साफ है कि अतिथि शिक्षकों को अधिक पारिश्रमिक का भुगतान किया गया है. अब अतिथि शिक्षकों को अधिक पारिश्रमिक देने वाले डीईओ और डीपीओ पर केस सर्टिफिकेट किया जाएगा. इन अधिकारियों से भुगतान की गई अधिक राशि को वसूल कर सरकारी खजाने में जमा किया जाएगा.

मुजफ्फरपुर: अधीक्षण अभियंता ने बकायादारों के बिजली काटने के लिए दिए निर्देश

गौर हो कि 2020-21 में समग्र शिक्षा अभियान के तहत कार्यरत ढाई लाख से अधिक शिक्षकों के वेतन के लिए 1654.78 करोड़ रुपए की रकम जारी कर दी गई है. विभाग के उप सचिव अरशद फिरोज की ओर से महालेखाकार को पत्र भेज दिया गया है. लंबे समय के अतंराल के बाद स्कूलों में रौणक लौटने लगी है और शिक्षा विभाग की बच्चों की पढ़ाई को लेकर गंभीर हो गया है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें