मुजफ्फरपुर न्यूज: कोरोना के साथ अब डेंगू का भी खतरा, सदर अस्पताल में खुला वार्ड

Smart News Team, Last updated: 13/10/2020 07:33 PM IST
शहर में डेंगूं का प्रकोप बढ़ रहा है, कई इलाकों से डेंगू मरीज सामने आ रहे हैं। विशेषज्ञ डॉक्टरों ने डेंगू से बचाव के लिए लोगों को सुझाव दिया है कि मच्छरदानी लगाकर सोएं, जलजमाव अपने आसपास नहीं होने दें।
डेंगू मच्छर

मुजफ्फरपुर. कोरोना के साथ अब जिले में डेंगू का खतरा भी बढ़ता जा रहा है. शहर के कई इलाकों के लोग इसकी चपेट में आ रहे हैं। अब बोचहां इलाके में डेंगू के एक और नए मरीज का मामला सामने आया है, जिससे यहां मिलने वाले मरीजों की संख्या अब 12 तक पहुंच गई है। जबकि गैर सरकारी तौर पर आंकड़ा 500 के करीब है। स्वास्थ्य विभाग के रिकॉर्ड में जिले में महज 12 लोग डेंगू से पीडि़त हैं। जिसमें बोचहां व मीनापुर में 4-4 , शहरी क्षेत्र में 3 मरीज और मुशहरी का 1 मरीज शामिल है। इनमें से 5 ठीक हो चुके हैं। सदर अस्पताल से लेकर पीएचसी स्तर पर संदिग्ध मरीज के जांच व नमूना संग्रह की व्यवस्था की गई है। सदर अस्पताल में वार्ड खुला है, जिसमें आठ बेड डेंगू मरीजों के लिए आरक्षित हैं।

डेंगू का प्रकोप मीनापुर, पुरानी बाजार, बालूघाट, बोचहां और डोमा पोखर इलाके में बढ़ रहा है। जिला वेक्टरजनित रोग पदाधिकारी डॉ. सतीश कुमार का कहना है कि सरकारी अस्पतालों में एलाइजा टेस्ट ही डेंगू की पुष्टि के लिए मान्य है। इसके अलावा निजी जांच केंद्रों को भी कहा गया है कि अगर कोई भी मरीज एनएस-1 की जांच में पॉजिटिव आता है तो सूचित करें। विभाग की ओर से उस सैंपल रिपोर्ट को एसकेएमसीएच के माइक्रो बायोलॉजी विभाग में भेजी जाएगी और वहां से रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद विभाग उस मरीज में डेंगू की पुष्टि मानेगा और उसका इलाज करेगा।

लगातार बढ़ी कीमतों के बाद मुजफ्फरपुर सर्राफा बाजार में लगा ब्रेक कीमतें थमी

उन्होंने कहा कि जिन इलाकों से मरीज मिले हैं, उन इलाकों में 500 मीटर के दायरे में दवा का छिड़काव कराया जा रहा है। उन्होंने कहा कि निजी क्लीनिक में एनएस-1 किट से ही जांच होती है। राज्य कार्यालय के आदेश और गाइडलाइन के अनुसार ही सरकारी अस्पतालों में काम हो रहा है। एसकेएमसीएच के अधीक्षक डॉ. विकास कुमार ने बताया कि उनके यहां एलिजा टेस्ट की व्यवस्था है और इसकी जांच मुफ्त उपलब्ध है।

कालाजार रिसर्च सेंटर के समन्वयक डॉ.सर्वजीत कुमार ने कहा कि उनके यहां इलाज के लिए एक महीने में करीब 150 मरीज आ चुके हैं। अभी डोमा पोखर इलाके के दो मरीजों का इलाज चल रहा है। डॉ.सर्वजीत ने कहा कि डेंगू से बचाव के लिए अपने घर पर सफाई रखें, जलजमाव न होने दें, मच्छरदानी लगाकर सोएं। डेंगू का मच्छर सुबह में अटैक करता है, बाथरूम में भी साफ-सफाई के साथ मच्छररोधी दवा का छिड़काव करते रहें।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें