मुजफ्फरपुर – ज्यादा मरीज मिलने से मीनापुर व बोचहां डेंगू के हाई रिस्क जोन में

Smart News Team, Last updated: Wed, 21st Oct 2020, 1:12 PM IST
  • जिले के शहरी इलाके के साथ अलग-अलग जगहों पर डेंगू मरीजों के बढ़ने से स्वास्थ्य विभाग हरकत में आ गया है. सिविल सर्जन ने अधिकारियों को इलाके की नियमित रिपोर्ट देने के लिए कहा है.
कोरोना के बीच डेंगू की चपेट में लखनऊ, 52 लोग बीमार, ऐसे हैं लक्षण

मुजफ्फरपुर. जिले के शहरी इलाकों के साथ अलग-अलग जगहों पर डेंगू के मरीज मिले हैं. सबसे ज्यादा मरीज मीनापुर व बोचहा इलाके से सामने आए हैं. जिस कारण इन इलाकों को स्वास्थ्य विभाग ने डेंगू के हाई रिस्क जोन घोषित कर दिया है. डेंगू के बढ़ते मामलों को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग भी हरकत में आ गया है. डेंगू को फैलने से रोकने के लिए वेक्टर जनित रोग नियंत्रण पर्यवेक्षक के जिम्मे प्रखंड का आवंटन किया गया है. इसे लेकर आज बुधवार को आपात बैठक बुलाई गई है. टीम को जिला मुख्यालय में दवा छिड़काव का प्रशिक्षण दिया जाएगा. दो दिनों के भीतर जिन इलाकों से मरीज मिले हैं वहां पर रोकथाम के लिए दवा का छिड़काव किया जाएगा. इसके अलावा शहरी इलाके में दवा का छिड़काव करने व जागरूकता के लिए सीएस स्तर से नगर आयुक्त को पत्र भेजा गया है. 

सभी जगह दवा भेज दी गई है. प्राइवेट क्लीनिक व अस्पताल संचालक से डेंगू मरीज की रिपोर्ट प्रतिदिन देने को कहा गया है. वेक्टर जनित रोग नियंत्रण सुपरवाइजर राजीव कुमार मोतीपुर, कांटी, अमरनाथ बोचहां, गायघाट, प्रियंका कुमारी मीनापुर, दानिश रसीदी साहेबगंज, पूजा कुमारी कुढऩी, मुशहरी, रोशन कुमार बंदरा, मुरौल, सकरा, संजय कुमार मड़वन, सरैया, संतोष कुमार पारू और अरुण कुमार को औराई व कटरा की जवाबदेही दी गई है. 

पुष्पम प्रिया की पार्टी को हाईकोर्ट से झटका,प्लुरल्स कैंडिडेट्स को एक सिंबल नहीं

जिला वेक्टर जनित रोग पदाधिकारी डॉ.सतीश कुमार ने कहा कि सभी पर्यवेक्षक अपने इलाके में प्राइवेट क्लीनिक चलाने वालों से संपर्क कर डेंगू रोगियों की पहचान करेंगे और उसकी रिपोर्ट देंगे. लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। मेडिसिन विशेषज्ञ डॉ. ए.के. दास ने कहा कि  डेंगू की बीमारी होने पर व्यक्ति को सिरदर्द, हड्डी व जोड़ों में दर्द, जी मचलाना, उल्टी आना, त्वचा पर लाल चकत्ते होना जैसे लक्षण नजर आते हैं। ऐसे हालात में विशेषज्ञ डॉक्टर या सरकारी अस्पताल में जाकर जांच व इलाज कराना चाहिए. सिविल सर्जन डॉ.एसपी सिंह ने कहा कि वेक्टर जनित रोग पर्यवेक्षक अपने इलाके की नियमित रिपोर्ट देंगे. लापरवाही पर सख्त एक्शन होगा. वह खुद समीक्षा करेंगे. उन्होंने कहा कि कहां छिड़काव हुआ, जागरूकता अभियान चला उसकी तस्वीर व्हाट्सएप पर ली जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें