मुजफ्फरपुर: विवि स्टूडेंट्स को मानसिक तनाव से उबारने को शुरू करेगा ऑनलाइन कोर्स

Smart News Team, Last updated: Sun, 13th Jun 2021, 12:12 PM IST
  • कोरोना के चलते युवा विशेषकर स्टूडेंट्स मानसिक और भावनात्मक स्तर काफी प्रभावित हुए हैं. नई शिक्षा नीति के तहत स्टूडेंट्स को इन विपरित परिस्थिथियों से उबारने के लिए विवि को पत्र जारी कर ऑनलाइन पाठ्यक्रम शुरू करने के निर्देश दिए गए हैं.
फाइल फोटो

मुजफ्फरपुर. कोरोना महामारी ने हर किसी के जीवन शैली पर असर छोड़ा है. जिसके चलते युवा और स्टूडेंट्स काफी तनावपूर्ण स्थिति से गुजर रहे हैं. करीब डेढ़ वर्ष से स्टडी का पैटर्न ऑनलाइन होने के चलते स्टूडेंट्स पर शरीरिक और भावनात्मक स्तर के साथ-साथ मानसिक स्वास्थ्य भी बुरी तरह प्रभावित हुआ है. इन सभी बातों का ध्यान रखते हुए यूजीसी की ओर से नए निर्देश जारी करते हुए विवि को एक ऐसा ऑनलाइन कोर्स शुरू करने को कहा गया है, जो स्टूडेंट्स को मानसिक तनाव की स्थिति से उबारने में सहायक हो.

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की ओर से जारी पत्र में कहा गया है कि कोविड-19 महामारी के प्रभाव के चलते स्टूडेंट्स शरीरिक, मानसिक और भावनात्मक तौर पर संकट की स्थिति से गुजर रहे हैं. उन्हें इस स्थिति से उबारने के लिए सामाजिक-भावनात्मक शिक्षा की जरूरत है. इस सबंधी राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) - 2020 में उच्च शिक्षण संस्थानों को सामाजिक-भावनात्मक शैक्षणिक सहायता और सलाह प्रदान करने की जरूरत सबंधी सिफारिश की गई है. इसे देखते हुए अपडेटेड ऑनलाइन मोड में पाठ्यक्रम तैयार किया गया है। जिसमें युवाओं में 10 तरह की स्किल्स डेवलपमेंट को प्राथमिकता दी जाएगी.

मुजफ्फरपुर में मना बाढ़ सुरक्षा सप्ताह, लोगों को बताए गए सुरक्षात्मक उपाय

ऑनलाइन कोर्स में स्टूडेंट्स की स्किल्स डेवलपमेंट में प्रमुखता काम करने के स्थान पर साथियों के साथ और परिवार में बेहतर व्यवहार करने को विकसित किया जाएगा. ऑनलाइन पाठ्यक्रम 30 घंटे का होगा. विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की ओर से कहा गया है कि स्टूडेंट्स में इमोशनल इंटेलिजैंस स्किल्स विकसित करना सफल जीवन जीने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है और ट्रेनिंग के बाद स्टूडेंट्स को यूनेस्को एमजीआईईपी और लाइफ यूनिवर्सिटी से विश्व स्तर पर मान्यता प्राप्त सर्टिफिकेट प्राप्त होगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें