मुजफ्फरपुर में जिला स्तरीय बाल विज्ञान प्रदर्शनी का ऑनलाइन आयोजन आज

Smart News Team, Last updated: 09/12/2020 01:56 PM IST
  • जिला समन्वयक डॉ.फुलगेन पूर्वे के मुताबिक सरकारी और प्राइवेट दोनों स्कूल के विद्यार्थियों को प्रदर्शनी में अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिलेगा. उसके बाद उनके लिए राज्य स्तरीय प्रदर्शनी में भाग लेने के अवसर खुलेंगे.
बाल विज्ञान कांग्रेस में सरकारी और प्राइवेट दोनों स्कूल के विद्यार्थी भाग ले सकते हैं (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मुजफ्फरपुर. मिठनपुरा स्थित आईंस्टीन लर्निंग सेंटर में आज जिला स्तरीय बाल विज्ञान कांग्रेस का आयोजन किया जाएगा. इस प्रदर्शनी के दौरान जिला स्तर पर बाल वैज्ञानिकों का चयन किया जाएगा. इस काम की जिम्मेदारी निर्णायक मंडल की तीन सदस्यों को दी गई है. सबसे बड़ी बात यह है कि पहली बार इस तरह की प्रदर्शनी ऑनलाइन किया जा रहा है. इस संबंध में राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस के जिला समन्वयक डॉ.फुलगेन पूर्वे ने जानकारी दी. उन्होंने बताया कि कोरोना के कारण इस बर बच्चे अपने घर या स्कूल से ही ऑनलाइन इस प्रदर्शनी में जुड़ेंगे. इसमें सरकारी और प्राइवेट दोनों स्कूल के विद्यार्थी भाग ले सकते हैं.

राष्ट्रीय बाल विज्ञान कांग्रेस के जिला समन्वयक डॉ.फुलगेन पूर्वे ने जानकारी देते हुए बताया कि डीएन हाई स्कूल में सात दिसंबर तक इस प्रदर्शनी के लिए 30 छात्र-छात्राओं ने प्रोजेक्ट रिपोर्ट जमा करवाई है. उनकी ओर से इस ऑनलाइन आयोजन में पार्टिसिपेशन की जाएगी और ये बच्चे अपने प्रोजेक्ट का ऑनलाइन प्रस्तुतिकरण देंगे. 

मुजफ्फरपुर के माड़ीपुर में बंद के दौरान राहगीरों के साथ हुई मारपीट

इस प्रदर्शनी के दौरान  निर्णायक मंडल के सदस्य बच्चों से पूछताछ भी करेंगे. इसके बाद स्टूडेंट्स की ओर से सतत जीवन हेतु विज्ञान विषय पर अपनी प्रस्तुतियां पेश की जाएंगी. डॉ.पूर्वे का कहना है कि इसमें 10 से 17 वर्ष आयु वर्ग के बाल वैज्ञानिक इसमें भाग लेते हैं. यहां से चयनित होने के बाद इन बाल वैज्ञानिकों को प्रमंडल और उसके बाद राज्य स्तर पर प्रतियोगिता में शामिल होकर विज्ञान के क्षेत्र में अपनी प्रतिभा को प्रदर्शित करने और सीखने का अवसर मिलता है. 

निष्ठा कार्यक्रम में रुचि नहीं लेने वाले शिक्षकों से स्पष्टीकरण: सरकार की ओर से गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को लेकर शिक्षकों को दिए जा रहे प्रशिक्षण में जिले के शिक्षक रुचि नहीं ले रहे हैं. अब इनके प्रति बिहार शिक्षा परियोजना परिषद ने सख्ती शुरू की है. ऐसे शिक्षकों को चिह्नित कर उनका नाम मांगा गया है. डीईओ को ऐसे शिक्षकों से रजिस्ट्रेशन नहीं कराने, प्रशिक्षण में शामिल नहीं होने का कारण पूछने और कार्रवाई का निर्देश दिया गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें