निगम की परिसंपत्तियों का रिकॉर्ड रखने की तैयारी, उपनगर आयुक्त को जिम्मेदारी

Smart News Team, Last updated: Sat, 23rd Jan 2021, 2:34 PM IST
  • मुजफ्फरपुर नगर निगम के पास अपनी संपत्तियों का रिकॉर्ड नहीं है. इसके लिए नगर आयुक्त की ओर से परिसंपत्ति संरक्षण कोषांग समिति का गठन किया है. जो निगम की परिसंपत्तियों की तलाश करेगी. 
मुजफ्फरपुर निगम बोर्ड में आधी-अधूरी समितियों का गठन 2012 में हुआ था

मुजफ्फरपुर. मुजफ्फरपुर नगर निगम की ओर से अपनी परिसंपत्तियों का रिकॉर्ड रखने की तैयारी कर ली गई है. इसके लिए निगम की ओर से परिसंपत्ति संरक्षण कोषांग का गठन किया गया है और इसका प्रभार उपनगर आयुक्त रणधीर लाल को दिया गया है. उल्लेखनीय है कि निगम के पास अपनी परिसंपत्तियों का रिकॉर्ड नहीं होने के कारण लोगों की ओर से निगम की जमीन व भवन पर कब्जा किया हुआ है. परिसंपत्ति संरक्षण कोषांग की ओर से ऐसी संपत्तियों की तलाश की जाएगी और लोगों की ओर से कब्जा की गई जमीन को छुड़ाया जाएगा

गौर हो कि निगम की ओर गठित किए गए परिसंपत्ति संरक्षण कोषांग में प्रधान सहायक अशोक कुमार सिंह, विनय कुमार सिंह, सहायक मो. नूर आलम और संजय कुमार को प्रतिनियुक्त किया गया है. अब परिसंपत्ति संरक्षण कोषांग की ओर से वार्ड पार्षदों व निगम के पूर्व कर्मियों की मदद से विघटित एमआरडीए की परिसंपत्तियों की तलाश की जाएगी. जिसके तहत कब्जे की जमीन को खाली कराया जाएगा और खाली जमीन की घेराबंदी की जाएगी.

मुजफ्फरपुर: छात्रा का IIM अहमदाबाद हॉस्टल में लटका मिला शव, पुलिस जांच में लगी

नगर आयुक्त की ओर से निगम कार्यालय में ही परिसंपत्ति संरक्षण कोषांग का गठन इसी उद्देश्य से किया गया है कि निगम को विकास योजनाओं के लिए शहर में खाली जमीन नहीं मिल रही है. निगम के पास रिकॉर्ड ना होने के कारण लोगों ने निगम की परिसंपत्तियों पर कब्जा किया हुआ है. कोषांग के जरिए ऐसी परिसंपत्तियों की तलाश कर कब्जा छुड़ाया जाएगा ताकि शहर के विकास को रफ्तार दी जा सके.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें