मुजफ्फरपुर में रेलवे को गोदाम में मजदूरों की कमी से हो रही डबल कमाई

Smart News Team, Last updated: 09/12/2020 10:27 PM IST
  • रेलवे व्यापारियों से मजूदरों की कमी के चलते माल की लोडिंग पर ढुलाई शुल्क और अनलोडिंग में देर होने पर विलंब शुल्क वसूल कर दोहरा फायदा कमा रहा है. व्यापारियों का कहना है कि मजदूर उपलब्ध कराना ठेकेदारी की जिम्मेदारी है लेकिन इसका खामियाजा उन्हें भुगतना पड़ रहा है
मुजफ्फरपुर जंक्शन 

मुजफ्फरपुर. गोदाम में मजदूरों की कमी का रेलवे को डबल फायदा हो रहा है और इससे रेलवे की कमाई भी डबल हो रही है. रेलवे को इन दिनों माल की लोडिंग और अनलोडिंग दोनों में कमाई कर रहा है. गोदाम में मजदूरों की व्यवस्था नहीं है जिसके चलते रेलवे की ओर से लोडिंग के दौरान ढुलाई शुल्क और अनलोडिंग में देर होने पर विलंब शुल्क वसूल किया जा रहा है. व्यापारियों को मजदूरों के ठेकेदार की लापरवाही का खमियाजा भुगतना पड़ रहा है. 

व्यापारियों का कहना है कि गोदाम में ठेकेदार से वैगन खाली कराने के लिए मजदूरों की मांग की जाती है लेकिन ठेकेदार मजदूरों को देने में आनाकानी करता है। इसमें दो से तीन घंटा विलंब होने पर व्यापारियों को विलंब शुल्क देना पड़ता है. बेवजह विलंब होने पर व्यापारी आक्रोशित हैं. व्यवसायियों का कहना है कि मजदूर उपलब्ध कराना ठेकेदोरों की जिम्मेदारी है, लेकिन उनकी लापरवाही का खमियाजा उन्हें भुगतना पड़ रहा है. जबकि गोदाम में मजदूरों का कोई रजिस्ट्रेशन भी नहीं है. इस संबंध में गोदाम के अधिकारी का कहना है कि व्यापारियों की सुविधा का ख्याल रखा जाता है.

बिहार सृजन घोटला: मुख्य आरोपी अमित-प्रिया की संपत्ति गुरूवार से होगी जब्त

गौर हो कि नारायणपुर अनंत माल गोदाम में मालगाड़ी से माल की अनलोडिंग करने के लिए पांच रेलवे लाइन हैं. मालगाड़ी यार्ड में आकर खड़ी होती है और यार्ड से मालगाड़ी को माल गोदाम में प्लेस किया जाता है. इसके बाद व्यापारी मजदूरों की खोज करता है. ठेकेदार मजदूरों को देने में आनाकानी करता है। इसमें दो से तीन घंटा विलंब होने पर व्यापारियों को विलंब शुल्क देना पड़ता है. बेवजह विलंब होने पर व्यापारी आक्रोशित हैं. वे रेलवे की सुविधा पर सवाल उठा रहे है बावजूद मजदूरों के ठेकेदारों पर कोई असर नहीं पड़ता है. नारायणपुर अनंत माल गोदाम में पिछले एक माह में अनलोडिंग विलंब शुल्क के बदले रेलवे को नौ लाख रुपए की कमाई हुई है. कर्मियों का कहना है कि माल गोदाम में हर माह समान से लदीं 55 मालगाड़ियां आती हैं. इनमें 55 या 56 वैगन होते हैं. प्रत्येक दिन गोदाम में सीमेंट, गिट्टी, चावल, छड़, कोयला, नमक व अन्य सामान अनलोडिंग किया जाता है. व्यापारी रैक प्वाइंट से ही ट्रक पर लोडिंग कर उत्तर बिहार के विभिन्न जिलों में भेजते हैं. मगर, मजदूरों के अभाव या प्लेसमेंट में देरी करने पर सामान उतारने में देर होती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें