Ratha Saptami 2022: रथ सप्तमी पर करें ये उपाय, सूर्यदेव देंगे धन-संपत्ति और सफलता का वरदान

Pallawi Kumari, Last updated: Mon, 7th Feb 2022, 9:24 AM IST
  • आज 7 फरवरी को रथ सप्तमी है. आज ही के दिन यानी माघ महीने की शुक्ल पक्ष सप्तमी को सूर्य देव अपने सात घोड़े वाले रथ के साथ प्रकट हुए थे. इसलिए आज सूर्य देव की विशेष पूजा करने का विधान है. लेकिन पूजा के साथ आप इन उपायों को करेंगे तो आपको सूर्य देव की कृपा प्राप्त होगी.
सूर्य देव रथ सप्तमी (फोटो-लाइव हिन्दुस्तान)

हर साल माघ महीने के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को रथ सप्तमी का त्योहार मनाया जाता है. कहा जाता है कि इसी दिन भगवान सूर्य देव अपने सात घोड़े के साथ प्रकट हुए थे और उन्होंने पृश्वी को प्रकाशमय किया था. इसलिए पूरे साल पड़ने वाली सभी सप्तमी तिथियों में माघ शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि का खास महत्व होता है. इस बार रथ सप्तमी आज 7 फरवरी को हैं. इसे रथ सप्तमी के अलावा अचला सप्तमी, माघ सप्तमी सूर्य जयंती , भानु सप्तमी और आरोग्य सप्तमी के नाम से भी जाना जाता है. 

मान्यता है कि इस तिथि को सूर्यदेव की पूजा करने से जीवन में सुख, सम्मान और आरोग्य की प्राप्ति होती है. इसलिए आज लोग सूर्य देव की पूजा पूरे विधि-विधान के साथ करते हैं. लेकिन आज के दिन अगर आप इन आसान उपायों को करते हैं तो सूर्य देव की विशेष कृपा आपको प्राप्त होगी.

Ratha Saptami 2022: 07 फरवरी को है रथ सप्तमी, जानें सूर्यदेव की पूजा विधि, मुहू्र्त और महत्व

रथ सप्तमी पर करें ये उपाय-

1. आज किसी पवित्र नदी में स्नान जरूर करें. यदि नदीं स्नान किसी कारण संभव न हो तो घर पर ही नहाने के पानी में थो़ड़ा गंगाजल मिलाकर स्नान करें.

2. सूर्य देव को लाल रंग के फूल, लाल चंदन शुद्ध जल में मिलाकर अर्घ्य दें.

3. आज के दिन सूर्य बीज मंत्र का एक माला जाप जरूर करें.

4. सूर्य देव को पूजा में अनार, लाल रंग की मिठाई या गुड़ का भोग जरूर लगाएं.

रथ सप्तमी महत्व-

रथ सप्तमी के दिन भगवान सूर्य देव की पूजा की जाती है. मान्यता है कि आज के दिन जो व्यक्ति सूर्य देव की पूजा-अराधना करता है उसे स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं नहीं होती. साथ ही धन और वैभव का भी आशीर्वाद मिलता है. निसंतान दंपत्ति भी आज के दिन सूर्य देव की पूजा करते हैं और व्रत रखते हैं.

नौ दिनों के गुप्त नवरात्रि में करें 10 महाविद्या के ये उपाय, सुधर जाएगी माली हालत

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें