आशा वर्करों की बहाली को लेकर समीक्षा, तय समय पर चयन नहीं होने पर होगी सख्ती

Smart News Team, Last updated: 04/02/2021 03:14 PM IST
  • मुजफ्फरपुर में स्वास्थ्य योजनाओं को सही ढंग से लागू करने के लिए आशा वर्करों की शीघ्र बहाली को लेकर सख्ती की गई है. पीएचसी के हेल्थ प्रबंधकों और बीसीएम को आशा वर्करों की बहाली संबंधी चयन प्रक्रिया एक सप्ताह में पूरी करने के लिए कहा गया है.  
फाइल फोटो

मुजफ्फरपुर. जिले के शहरी इलाकों में आशा वर्करों का चयन काफी समय से लंबित है. जिलाधिकारी की ओर से सख्ती किए जाने पर आशा वर्करों की बहाली को लेकर समीक्षा की गई. समीक्षा के बाद सीएस डॉ. विनय कुमार शर्मा ने शहरी क्षेत्र के चार पीएसचसी के हेल्थ प्रबंधकों और बीसीएम को आशा वर्करों की चयन प्रक्रिया को एक सप्ताह में पूरा करने के लिए कहा है. तय समय सीमा में चयन नहीं होने पर सख्ती की जाएगी.

गौर हो कि आशा वर्करों की बहाली हो जाने के बाद स्वास्थ्य योजनाओं को लागू करने में आसानी होगी. जिला आशा प्रबंधक प्रभारी राजकिरण की ओर से मेयर और नगर आयुक्त को आशा वर्करों की बहाली को लेकर पत्र भी लिखा गया है. जिसमें चयन संबंधी आमसभा की तारीख निकालने का अनुरोध किया गया है. आमसभा की तारीख तय हो जाने के बाद जल्द ही आशा वर्करों की चयन प्रक्रिया पूरी की जाएगी और स्वास्थ्य सेवाओं को लोगों के लिए बहाल करने पर कार्य शुरू हो जाएगा

पहले दोस्त की पत्नी को प्रेमजाल में फंसाया फिर उसी की बच्ची के साथ किया गलत काम

सीएस डॉ. विनय कुमार शर्मा ने सरकारी की स्वास्थ्य योजनाओं व अन्य गतिविधियों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि नवनियुक्त शहरी एएनएम के लिए चार दिवसीय प्रशिक्षण शिविर छपरा के होटल के सभागार में शुरू हो गया है. शिविर में 80 के करीब एएनएम को ट्रेनिंग दी जा रही है. राज्य मुख्यालय से आए प्रशिक्षकों की ओर से नवनियुक्त शहरी एएनएम को ट्रेनिंग दी जा रही है. उन्होंने परिवार नियोजन, टीकाकरण संबंधी महत्वपूर्ण जानकारी दी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें