मुजफ्फरपुर: फिर शुरू होगा भारत-नेपाल मैत्री बस का परिचालन,दिल्ली की बसें बढ़ेंगी

Smart News Team, Last updated: 29/11/2020 08:51 PM IST
  • राज्य सरकार ने कोरोना को लेकर आज नई गाइडलाइन जारी की है. इसमें शादी बयाह में बैंड बाजे पर लगी रोक हटा ली गई है. साथ ही साथ पहले किसी शादी बयाह में 100 लोगों को आने की अनुमति थी जबकि यह संख्या बढ़ाकर 150 कर दी गई है. पिछले दिनों जब रोक लगाई गई थी तो बैंड बाजे वालों ने विरोध जताया था. बैंड बाजे के प्रतिनिधियों ने जिला प्रशासन से भी इस संबंध में मुलाकात की थी. राज्य स्तरीय विरोध प्रदर्शन को देखते हुए सरकार ने आज नई गाइडलाइन जारी की है. 
  • भारत नेपाल मैत्री बस एक बार फिर से चलाने की कवायद शुरू हो गई है. आज मुजफ्फरपुर में परिवहन मंत्री शीला कुमार ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि कोरोना की स्थिति अब नियंत्रित हो रही है. इससे एक बार फिर अब बिहार से नेपाल जाने वाली बसों का परिचालन शुरू किया जा रहा है. परिवहन मंत्री ने कहा कि बसों को लेकर जो ऊहापोह की स्थिति बनी हुई है उसे लेकर भी जल्द ही गाइडलाइन जारी की जाएगी. किराए को लेकर जो मनमानी है उसे लेकर भी उच्च स्तरीय बैठक बुलाई गई है. इसके साथ ही मुजफ्फरपुर से दिल्ली जाने वाली बसों की संख्या भी बढ़ाई जाएगी. 
  • मुजफ्फरपुर में भाजपा नेताओं की गतिविधियां लगातार बढ़ती जा रही हैं. कल एक उच्च स्तरीय बैठक में यह निर्णय लिया गया था कि किस तरीके संघ को मजबूत करने के लिए पार्टी के विभिन्न संगठनों को मजबूत करने के लिए विशेष तौर पर यहां अधिकारियों को तैनात किया जा रहा है. आज जिले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय अग्रवाल थे. उन्होंने पार्टी को और मजबूत करने पर मंथन किया. क्रेडिट कार्ड जो कभी छात्रों के लिए वरदान साबित हुआ करता था, आज वही परेशानी का सबब बन गया है. 
  • मुजफ्फरपुर में बहुत सारी ऐसी शिकायतें सामने आ रही हैं. जिसमें स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड में चार लाख का जो भुगतान होता था बीच में ही बंद कर दिया गया है. छात्रों ने बताया कि चार लाख की स्वीकृति के बाद एक साल तो भुगतान हुआ लेकिन दूसरे साल रोक दिया गया. जब अधिकारियों से जानकारी लेनी चाही तो कोई ठोस जानकारी नहीं मिली. कई संस्थानों की ओर से ऐसा किया गया है. 
  • मुजफ्फरपुर में पिछड़े वर्ग की बच्चियों के लिए खुशखबरी है. जिले में पांच एकड़ आवासीय बारहवीं कक्षा तक स्कूल खोलने की कवायद शुरू हो गई है. पिछले दो साल से इस प्रोजेक्ट पर काम किया जा रहा था लेकिन विभाग की ओर से इसे हरी झंडी नहीं मिल रही थी. हरी झंडी मिलते ही जमीन ढूंढने की कवायद शुरू कर दी है. सकरा में पांच एकड़ जमीन इसके लिए चिन्हित की गई है. भू स्वामी ने इसकी स्वीकृति भी दे दी है. आगे प्रक्रिया के लिए फाइलें दौड़नी शुरू हो गई हैं.

सम्बंधित वीडियो गैलरी