मुजफ्फरपुर: बालिका गृह कांड में ब्रजेश ठाकुर की अपील पर हाईकोर्ट में सुनवाई टली

Smart News Team, Last updated: 17/10/2020 02:11 PM IST
  • विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के चुनाव के लिए शुक्रवार को नामांकन का अंतिम दिन था. जिसके चलते क्लेक्ट्रेट में पूरी गहमागहमी बनी रही. अंतिम दिन होने के कारण क्लेक्टरेट में उम्मीदवार काफी संख्या में पहुंचे. लोगों में उत्सुकता बनी हुई थी कि कौन सा उम्मीदवार आता है और किस दल से नामांकन भरता है. 60 उम्मीदवारों ने अंतिम दिन नामांकन भरा. इसमें वीआईपी के राजू सिंह समेत कई अन्य उम्मीदवार भी शामिल थे. जो भी उम्मीदवार शाम तीन बजे तक पहुंच गए थे, उनका शाम सात बजे तक पर्चा भरवाया गया था.
  • बालिका गृह कांड में दोषी बृजेश ठाकुर समेत अन्य की अपील की दिल्ली हाईकोर्ट में सुनवाई शुक्रवार को होनी थी लेकिन कोर्ट ने इसे टाल दिया है. गौर हो कि मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड में दोषी बृजेश ठाकुर को आजीवन कारावास और उम्र कैद की सजा सुनाई गई है. अब वो जेल में बंद है, अपनी सजा के खिलाफ उन्होंने अपील दायर की हुई है. बालिका गृह कांड एक ऐसा कांड था जिसने राष्ट्रीय स्तर पर मुजफ्फरपुर को चर्चा में ला दिया था. इस पूरे मामले में बच्चियों के साथ हुए शोषण के लिए सीबीआई ने अपनी जांच में बृजेश को दोषी पाया गया था. उनके साथ कुछ अन्य लोग भी दोषी पाए गए थे और उन पर कार्रवाई की गई थी.
  • भाजपा उपाध्यक्ष बेबी कुमारी ने अपने पद से इस्तीफा देते हुए लोजपा का दामन थाम लिया. अब वह लोजपा से चुनाव लड़ेंगीं. बता दें कि बेबी कुमारी को भाजपा से टिकट मिलने की पूरी उम्मीद थी. अंतिम समय में यह क्षेत्र वीआईपी को दे दिया गया और वीआईपी से भी टिकट नहीं मिलने के कारण बेबी कुमारी ने भाजपा का दामन ही छोड़ दिया.
  • चुनाव की सरगर्मी बढ़ने के साथ ही रंगदारों का खौफ भी बढ़ता जा रहा है. व्यापारियों में इसे लेकर काफी खौफ है. गुरुवार को सिंकदरपुर के एक सीमेंट कारोबारी से रंगदारियों ने रकम की मांग की थी. शुक्रवार को उनके फोन पर दोबारा मैसेज भेजा गया कि वो रकम लेकर बताई गई जगह पर पहुंचें. पुलिस मामले की छानबीन में जुटी हुई है. काल डिटेल भी खंगाले जा रहे हैं मगर अब तक कोई सुराग हाथ नहीं लगा है. सीमेंट कारोबारी के साथ अन्य व्यापारियों ने कहा कि ऐसे माहोल में वह किस तरीके से काम कर पाएंगे, जहां वह खुद सुरक्षित नहीं हैं और उन्हें लगातार धमकी दी जा रही है कि अगर वह रकम लेकर नहीं आए तो उन्हें बख्शा नहीं जाएगा.
  • सरकार ने जिले में एक माडल स्कूल बनाने का फैसला किया है ताकि लोग अपने बच्चों को प्राइवेट स्कूलों में दाखिल करने की बजाए सरकारी स्कूलों में दाखिल करवाने की रूचि लें. एक सरकारी स्कूल को इस तरीके से माडल स्कूल में व्यवस्थित किया जाएगा कि प्राइवेट स्कूल के बच्चे सरकारी स्कूल में आएंगे. फिलहाल हर जिले में एक-एक माडल स्कूल बनाना है. इसे लेकर प्रधान सचिव की ओर से डीईओ को निर्देश भी जारी किया गया है कि माडल स्कूल में सारी व्यवस्था और शैक्षणिक गतिविधियां इस तरीके से होंगी कि लोग प्राइवेट स्कूल से बच्चे का नाम कटाकर सरकारी स्कूल में दाखिला लेने को मजबूर होंगे.
  • दुर्गा पूजा में सोशल मीडिया के माध्यम से अफवाह फैलाने की ओर प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट है. डीएम डाक्टर चंद्रशेखर ने निर्देश दिए हैं कि जो लोग सोशल मीडिया पर अफवाह फैला रहे हैं कि दुर्गा पूजा में प्रतिमा लगानी है उनके खिलाफ बनती कार्रवाई की जाएगा. कोरोना के चलते इस बार ऐसा कुछ नहीं होना है.

सम्बंधित वीडियो गैलरी