रेप मामले में रांची अव्वल, गढ़वा दूसरे स्थान पर की पुलिस वेबसाइट पर उपलब्ध आकड़ा

Smart News Team, Last updated: 16/12/2020 03:29 PM IST
  • 2013 से 2018 तक कई जिलों में दुष्कर्म के दर्ज आंकड़े बराबर-बराबर. झारखंड पुलिस की वेबसाइट में दुष्कर्म से जुड़ी दी गई जानकारी में यह खुलासा हुआ है. वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक इस वर्ष भी रांची में दुष्कर्म की सर्वाधिक घटनाएं हुई हैं. 
रेप मामले में रांची अव्वल, गढ़वा दूसरे स्थान पर की पुलिस वेबसाइट पर उपलब्ध आकड़ा

रांची: चालू वर्ष में सितंबर 2020 तक सूबे में दुष्कर्म के मामलों में रांची अव्वल है. वहीं गढ़वा दूसरे स्थान पर है. कुछ जिलों में 2013 से 2018 तक दुष्कर्म के आंकड़े आश्चर्यजनक तरीके से बराबर-बराबर हैं. झारखंड पुलिस की वेबसाइट में दुष्कर्म से जुड़ी दी गई जानकारी में यह खुलासा हुआ है.

वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक इस वर्ष भी रांची में दुष्कर्म की सर्वाधिक घटनाएं हुई हैं. वर्ष 2020 के सितंबर महीने तक जिले में दुष्कर्म के सर्वाधिक 175 मामले दर्ज किए गए हैं. वहीं गढ़वा कुल 88 दर्ज मामलों के साथ दूसरे स्थान पर है. वहीं पलामू 86 मामलों के साथ तीसरे स्थान पर है.2013 से 2020 तक के कुल दर्ज मामलों की तुलना करें तो रांची पहले नंबर पर बरकरार है. 

CM सोरेन ने झारखंड की फंसी बेटियों को वापस बुलाया, आज कोयंबटूर से रांची पहुंचेगी

पर साहिबगंज दूसरे नंबर पर और गढ़वा एक पायदान खिसककर तीसरे नंबर पर चला जाता है. आठ सालों में रांची में दुष्कर्म के सर्वाधिक 1268 मामले दर्ज हुए. वहीं साहिबगंज में 731 मामले दर्ज हुए. उसी तरह गढ़वा में 617 मामले दर्ज हुए. रांची में 2013 में सर्वाधिक 115, 2014 में 131, 2015 में 158, 2016 में 161, 2017 में 158, 2018 में 179, 2019 में 191 और इस साल सितंबर महीने तक 175 मामले दर्ज किए जा चुके हैं. वहीं साहिबगंज में 2013 में 144, 2014 में 83, 2015 में 56, 2016 में 51, 2017 में 60, 2018 में 79, 2019 में 175 और इस साल सितंबर महीने तक 83 मामले दर्ज हुए. 

रांची नगर निगम कार्यालय में टेंडर को लेकर भिड़े दो ठेकेदार, जमकर चले लाठी-डंडे

उधर राज्य के बोकारो, धनबाद, गढ़वा, गुमला, चतरा, दुमका, देवघर, पूर्वी सिंहभूम जिले में 2013 से 2018 तक बराबर-बराबर दुष्कर्म की घटनाएं घटित हुई हैं. इन जिलों में बराबर-बराबर 2013 में 58, 2014 में 63, 2015 में 97, 2016 में 64, 2017 में 65 और 2018 में 67 घटनाएं हुई. बोकारो में 2019 में 86 और इस साल सितंबर महीने तक 57, धनबाद में 2019 में 104 व सितंबर महीने तक 57, गढ़वा में 2019 में 115, गुमला में 2019 में 84 और सितंबर तक 63, दुमका में 2019 में 30 और सितंबर महीने तक 22, देवघर में 2019 में 44 और सितंबर तक 52, पूर्वी सिंहभूम में 2019 में 89 और सितंबर तक 85, चतरा में 2019 में 50 और सितंबर तक 56 मामले दर्ज हुए हैं.

झारखंड सरकार ने दी लोगों को बड़ी राहत, कोरोना टेस्ट के दाम कम हुए, जानें नए रेट

खूंटी में 2013 में आठ, 2014 में सात, 2015 में 13, 2016 में 20, 2017 में 13, 2018 में 21, 2019 में 19 और सितंबर 2020 तक 21 मामले दर्ज हुए। उसी तरह लोहरदगा में 2013 में 35, 2014 में 45, 2015 में 38, 2016 में 45, 2017 में 63, 2018 में 45, 2019 में 67 और सितंबर महीने तक 47, रामगढ़ में 2013 में 36, 2014 में 31, 2015 में 44, 2016 में 24, 2017 में 19, 2018 में 25, 2019 में 32 और सितंबर तक 27, सरायकेला में 2013 में 34, 2014 में 30, 2015 में 30, 2016 में 37, 2017 में 23, 2018 में 33, 2019 में 31 और सितंबर तक 19 दुष्कर्म के मामले दर्ज हुए हैं। 

उसी तरह गिरिडीह में 2013 में 56, 2014 में 67, 2015 में 41, 2016 में 60, 2017 में 72, 2018 में 69, 2019 में 95 और सितंबर तक 69, हजारीबाग में 2013 में 62, 2014 में 65, 2015 में 57, 2016 में 53, 2017 में 70, 2018 में 69, 2019 में 95 व इस साल सितंबर महीने तक 106, कोडरमा में 2013 में 23, 2014 में 15, 2015 में 17, 2016 में 15, 2017 में 26, 2018 में 23, 2019 में 25 ओर सितंबर तक 25, पाकुड़ में 2013 में 59, 2014 में 54, 2015 में 49, 2016 में 47, 2017 में 43, 2018 में 52, 2019 में 42 और सितंबर महीने तक 32 मामले दर्ज हुए हैं। 

रांची पुलिस की गिरफ्त में आए छह साइबर अपराधी, 50 लाख से अधिक की कर चुके हैं ठगी

सिमडेगा में 2013 में 29, 2014 में 24, 2015 में 27, 2016 में 30, 2017 में 41, 2018 में 61, 2019 में 51 व सितंबर महीने तक 21, गोड्डा में 2013 में 12, 2014 में 37, 2015 में 46, 2016 में 41, 2017 में 59, 2018 में 69, 2019 में 61 और सितंबर महीने तक 32, जामताड़ा में 2013 में 30, 2014 में 23, 2015 में 12, 2016 में 13, 2017 में 29, 2018 में 19, 2019 में 26 और सितंबर महीने तक 15, लातेहार में 2013 में 27, 2014 में 25, 2015 में 34, 2016 में 25, 2017 में 48, 2018 में 40, 2019 में 50 और सितंबर महीने तक 48, पलामू में 2013 में 37, 2014 में 49, 2015 में 45, 2016 में 45, 2017 में 57, 2018 में 73, 2019 में 75 और सितंबर महीने तक 86 के अलावा पश्चिम सिंहभूम में 2013 में 63, 2014 में 54, 2015 में 60, 2016 में 45, 2017 में 38, 2018 में 52, 2019 में 66 और अबकी साल सितंबर महीने तक 73 दुष्कर्म के मामले दर्ज किए जा चुके हैं.