प्रदेश के प्रमुख मंदिरों में आने वाले चढ़ावे की होगी निगरानी

Smart News Team, Last updated: 14/12/2020 01:21 PM IST
  • उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बनाए गए धर्मार्थ कार्य निदेशालय का कार्यक्षेत्र और बढ़ने वाला है. प्रदेश के प्रमुख मंदिरों में आने वाले चढ़ावे का हिसाब किताब भी इस निदेशालय की देखरेख में होगा.
फाइल फोटो

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा धर्मार्थ कार्य निदेशालय बनाए जाने के बाद अब इस निदेशालय का कार्यक्षेत्र और बढ़ने वाला है. काशी विश्वनाथ मंदिर सहित प्रदेश के अन्य सभी प्रमुख मंदिरों में आने वाले चढ़ावे का हिसाब किताब भी इस निदेशालय की देखरेख में होगा.

जानकारी के अनुसार जल्द ही प्रदेश का पर्यटन विभाग 12 क्षेत्रीय तीर्थ विकास परिषदों के गठन का एलान भी करेगा. अभी मथुरा तीर्थ क्षेत्र विकास परिषद ही अस्तित्व में है जो प्रदेश और केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं के तहत मथुरा व बृज के पूरे इलाके में विकास कार्य करवा रही है. अब आने वाले समय में काशी विश्वनाथ, अयोध्या, प्रयागराज, देवीपाटन, विंध्यांचल, चित्रकूट आदि प्रमुख तीर्थ स्थलों के विकास के लिए भी तीर्थ विकास परिषद बनेंगी.

लखनऊ सर्राफा बाजार में बढ़त के साथ खुला सोना, चांदी रही स्थिर, आज का मंडी भाव

बता दें कि जब उत्तराखण्ड अलग राज्य नहीं बना था, तब बदरीनाथ व केदरानाथ मंदिर भी धर्मार्थ कार्य विभाग के ही दायरे में आते थे, जिससे इस विभाग को अच्छा राजस्व मिला करता था. मगर उत्तराखण्ड अलग राज्य बन जाने के बाद इस विभाग का बजट महज 17 हजार रुपये का रह गया था. अव वैष्णो देवी श्राईन बोर्ड की तर्ज पर धर्मार्थ कार्य निदेशालय गठित किया गया है.

किसान आंदोलन LIVE: कृषि कानूनों के खिलाफ अन्नदाताओं की भूख हड़ताल आज

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें