बिहार में डॉक्टरों के लिए बंपर नौकरियां, 10 मई को वॉक इन पर होगी भर्ती

Smart News Team, Last updated: 02/05/2021 12:04 PM IST
  • कोरोना काल में डॉक्टरों की कमी को पूरा करने के लिए राज्य सरकार एक साथ 1000 डॉक्टरों की भर्ती करने जा रही है. जिनका चयन वॉक-इन इंटरव्यू के आधार पर किया जाएगा. यह इंटरव्यू 10 मई को आयोजित किया गया है.
बिहार में डॉक्टरों के लिए बंपर नौकरियां, 10 मई को वॉक इन पर होगी भर्ती

पटना. कोरोना महामारी की इन कठिन परिस्थितियों का सामना करने के लिए मेडिकल और फार्मा क्षेत्र में बंपर भर्ती की जा रही है. इस विकट स्थिति में राज्य सरकार डेढ़ हजार से अधिक डॉक्टरों की एक साथ बहाली करने जा रही है. जिसमें 1000 डॉक्टरों की नियुक्ति के लिए चयन केवल इंटरव्यू के आधार पर होगा. राज्य सरकार ने इसके लिए 10 मई की तिथि घोषित कर दी है. वहीं अस्पतालों में चतुर्थ वर्गीय कर्मचारियों, पारा मेडिक्स और लैब टेक्नीशियन की अस्थाई नियुक्ति सिविल सर्जन करेंगे.

536 ब्लॉक में संविदा पर डॉक्टरों की नियुक्ति करने के फैसले के बाद राज्य मंत्रिमंडल ने अब संविदा पर एक हजार डॉक्टरों को भर्ती करने की मंजूरी दे दी है. इस संबंध में स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि प्रदेश में डॉक्टरों की कमी को पूरा करने के लिए हर संभव कोशिश की जा रही है. कोरोना महामारी पर काबू पाने के लिए सरकार हर तरह के कदम उठा रही है. कोविड-19 के खिलाफ इस लड़ाई को हम जरूर जीतेंगे.

CBSE बोर्ड ने 10वीं रिजल्ट की डेट की रिलीज, जानें कब आएगा परिणाम

मंत्री ने बताया कि सभी जिलों के सिविल सर्जन को यह अधिकार दिया गया है कि वे संविदा पर डॉक्टरों की बहाली करें. इसके लिए 10 मई को वॉक-इन इंटरव्यू होगा. जिसके आधार पर डॉक्टर नियुक्त कर लिए जाएंगे. उन्होंने आगे बताया कि एक और बड़ा निर्णय लिया गया है. जिसके तहत जिन सीनियर रेजिडेंट का हाल ही में रिटायरमेंट हुआ है. वे सरकार को तीन महीन तक अपनी सेवा दे सकेंगे.

बिहार में शनिवार को 62402 लोगों को लगा कोरोना का टीका, फुल डिटेल्स

सिविल सर्जनों को अस्पतालों में चतुर्थ वर्गीय कर्मचारियों की अस्थाई नियुक्ति करने का भी अधिकार दिया गया है. यह नियुक्ति तीन महीने के लिए की जाएगी. इसके अलावा तकनीकी सेवा आयोग ने सामान्य डॉक्टर के 2362 रिक्त पदों और विशेषज्ञ डॉक्टरों के 3706 रिक्त पदों की नियुक्ति के लिए विज्ञापन निकाला है. इस नियुक्ति को जल्द करने का अनुरोध किया गया है.

राज्यपाल का आदेश, बिहार की यूनिवर्सिटी और कॉलेजों में 1 मई से गर्मी की छुट्टी

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें