बिहार के 2 छात्रों ने बनाया कोरोना अलर्ट डिवाइस, मिला पेटेंट प्रमाण पत्र

Smart News Team, Last updated: Sun, 4th Apr 2021, 7:32 PM IST
कोरोना से बचाव के लिए बिहार के 2 छात्रों ने एक अलग डिवाइस बनाया है. यदि शरीर के एक मीटर के दायरे में यदि कोई दूसरा शख्स आता है तो इस डिवाइस का सेंसर दूसरे शख्स की बॉडी के तापमान को भांपकर अलार्म बजा देगा. इसके लिए छात्रों को केंद्र सरकार से पेटेंट प्रमाण पत्र भी मिला है.
कोरोना से बचाव के लिए बिहार के 2 छात्रों ने कोरोना अलर्ट डिवाइस बनाया है.

पटना. प्रदेश में कोरोना के मामले लगातर बढ़ते जा रहे हैं. इससे बचाव के लिए देश में अब टीकाकरण शुरू हो गया है वहीं दूसरी तरफ बिहार के दो बच्चों ने कोरोना से बचने के लिए कोरोना अलर्ट डिवाइस बनाया है. केंद्र सरकार ने इसे पेटेंट प्रमाण पत्र भी दे दिया है.

जानकारी के अनुसार इस डिवाइस को अर्पित और अभिजीत नाम के दो छात्रों ने मिलकर बनाया है। ये डिवाइस बैज की तरह आपकी पॉकेट में लग सकती है। दरअसल, कोरोना से बचाव का सबसे असरदार तरीका है सोशल डिस्टेंसिंग। जाने-अनजाने में लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करते हैं। इसमें कोरोना अलर्ट डिवाइस लोगों की मदद करेगा.

पटना एम्स में अब मरीजों को लेना होगा अपॉइंटमेंट, इन नंबरों पर करना होगा कॉल

छात्रों ने बताया कि शरीर के एक मीटर के दायरे में यदि कोई दूसरा शख्स आता है तो इस डिवाइस का सेंसर दूसरे शख्स की बॉडी के तापमान को भांपकर अलार्म बजा देगा. गौरतलब है कि इस डिवाइस को बनाने वाले अर्पित 12वीं कक्षा और अभिजीत 10वीं के छात्र हैं. अर्पित के पिता एक निजी अस्पताल में काम करते हैं. अर्पित वैज्ञानिक बनना चाहते हैं.

बिहारः कोरोना का कहर, वैक्सीन लगवाने के बाद भी पटना मिड डे मील DPO हुए संक्रमित

डिवाइस के संबंध में अर्पित ने बताया कि कोरोना काल में जब लॉकडाउन लगा तो सभी किसी न किसी तरीके से कोरोना से बचाव को लेकर अपना योगदान दे रहे थे. बाजार में बॉडी टेंपरेचर को मापने के लिए कई तरह की टेंपरेचर मशीन उपलब्ध थे लेकिन वो काफी महंगे और यूज टू नहीं थे। ऐसे में हमने कोरोना अलर्ट डिवाइस पर काम करना शुरु किया. हमने केंद्र सरकार के पास बैज को पेटेंट करने के लिए भेजा और इसमें हमें सफलता मिली.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें