10वीं में नंबर आए कम तो भोजपुरी फिल्मों में एक्ट्रेस बनने चल दीं 5 सहेलियां

Smart News Team, Last updated: Sat, 10th Apr 2021, 8:41 AM IST
  • बिहार की पांच किशोरियां अपने दसवीं के नंबर कम आने के कारण अभिवभावकों की डांट पड़ने के बाद घर छोड़ कर भाग गईं. वह पांचों मुंबई जा कर भोजपुरी फिल्मों में काम करना चाह रहीं थीं लेकिन कैंट स्टेशन पर ही जीआरपी ने उन्हें परिजनों के साथ न देखकर पकड़ लिया और घर वालों को सौंप दिया.
10वीं में नंबर आए कम तो भोजपुरी फिल्मों में एक्ट्रेस बनने चल दीं 5 सहेलियां

पटना। बिहार की रहने वाली पांच किशोरियां भोजपुरी फिल्म में हीरोइन बनने के लिए घर से भाग निकलीं. उन्हे घर से भाग कर फिल्मों में काम करना था लेकिन घर वाले लोगों के मौजूद न होने पर वाराणसी के कैंट जीआरपी ने उन्हें पकड़ लिया. जीआरपी ने सभी किशोरियों को परिवारजनों को सुपुर्द कर दिया. पुलिस द्वारा की गई पूछताछ के दौरान छात्राओं ने बताया कि हाईस्कूल में नंबर कम आने पर डांट पड़ी थी. इसके बाद यह फैसला किया कि मुंबई में जाकर भोजपुरी फिल्मों में काम करके करियर बनाना है.

जीआरपी इंस्पेक्टर अशोक कुमार दुबे ने बताया कि पांचों नाबालिग छात्राएं भभुआ स्थित रामगढ़ (बिहार) की रहने वाली है. पूर्वा एक्सप्रेस से कैंट स्टेशन उतरीं थीं. सभी इधर उधर भटक रही थीं. आरपीएफ की महिला कांस्टेबल सुमन की निगाह पड़ी तो उन्हें टोका. संदेह होने पर इसकी सूचना जीआरपी को दी. पांचों को पकड़ कर थाने लाया गया. जिसके बाद उनके घरवालों को सूचित कर पूछताछ के बाद उन्हें घरवालों को सुपुर्द कर दिया. सभी के चलते पूछताछ में बताया कि बिहार बोर्ड की परीक्षा में कम नंबर आने के कारण घरवालों ने उन्हें खूब डांटा था. जिससे आहत पांचों ने घर से भागकर मुंबई जाने का फैसला किया. जहां उन्हें भोजपुरी फिल्म में काम मिलने की उम्मीद थी.

पटना हाई कोर्ट ने बिहार में जुवेनाइल क्राइम रोकने के लिए दिए सख्त निर्देश

घटना के बाद जीआरपी की टीम ने अभिभावकों को थोड़ा जागरूक किया और कहा है कि अगर अभिभावक बच्चों को मोबाइल दे रहे हैं तो इस पर भी ध्यान दें कि बच्चा उसका किस तरह प्रयोग कर रहा है. अभिभावक के लिए बहुत जरूरी है कि बच्चों से संपर्क बनाकर रखें।.उनसे जाने वह क्या सोच रहे हैं, उनके दिमाग में क्या चल रहा है.

चारा घोटाला में लालू यादव को जमानत के लिए करना होगा इंतजार, 16 अप्रैल को होगी अगली सुनवाई

आरपीएफ की महिला कांस्टेबल सुमन ने बच्चों से भी अपील करते हुए कहा है कि अगर वे सोशल मीडिया का प्रयोग करते समय सतर्क रहें, सोशल मीडिया के माध्यम से यदि कोई व्यक्ति उनसे संपर्क कर कहीं बुलाता है तो इसकी सूचना अपने अभिभावक को जरूर दें. कोई भी अपराधी बच्चों का गलत इस्तेमाल कर सकता है. उन्हें गलत कामों में लगा सकता है. बच्चों के मन में क्या चल रहा है, उसे अपने माता पिता से जरूर बताएं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें