बिहार : 550 अमीनो की बहाली जल्द होगी, परीक्षाफल की प्रतीक्षा मे हो रही है देरी

Smart News Team, Last updated: 05/12/2020 02:14 PM IST
  • 1767 पदों के रिक्त कर्मीयों के सुचना संयुक्त प्रवेश प्रतियोगिता परीक्षा परिषद् को भेजी गई. राजस्व व भूमि सुधार विभाग में 550 अमीनो समेत लगभग 23 सौ पदों के लिए बहाली जल्द होगी.
बिहार : 550 अमीनो की बहाली जल्द होगी (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पटना: राजस्व व भूमि सुधार विभाग में 550 अमीनो समेत लगभग 23 सौ पदों के लिए बहाली जल्द होगी. चल रहे सर्वे के लिए सरकार ने अमीनो कि बहाली जल्द करने का फैसला किया है. इसके लिए आवेदन पहले लिए गए थे. परीक्षा हो चुकी है. सरकार जल्द ही परीक्षाफल निकालकर चयनितों को नियुक्ति देगी. अमीनो की यह बहाली शिविरों में कार्यरत करीब 3400 विशेष सर्वेक्षण अमीन के अतिरिक्त होगी. इसके अलावा अंचल, भू-सुधार उपसमाहर्ता कार्यालय आदि विभाग के विभिन्न दफ्तरों में रिक्त कर्मीयों के 1767 पदों के किए भी सुचना संयुक्त प्रवेश प्रतियोगिता परीक्षा परिषद् को भेज दी गई है.

अमीनो की बहाली के बाद उन्हे इलेक्ट्रॉनिक टोटल स्टेशन मशीन (ets) की ट्रेनिंग दी जायेगी. यह ट्रेनिंग राजस्व एवं सर्वे के बारे में दी जाने वाली सैद्धांतिक और फील्ड ट्रेनिंग के अतिरिक्त होगी. विभाग के अपर मुख्य सचिव विवेक कुमार सिंह ने बताया कि भूमी सर्वेक्षण के लिए सिविल इजिनियरिंग में डिप्लोमाधारी करीब 4950 अमीनो के लिए पिछले वर्ष भू-अभिलेख एवं परिमाप द्वारा चयन प्रक्रिया शुरु की गई थी. इनमें 3360 अमीनो ने योगदान दे दिया है. सभी 20 जिलों के 208 शिविरों में प्रतिनियुक्ति भी कर दिया गया है.

फील्ड में एक जगह लंबे समय से ड्यूटी कर रहे पुलिसकर्मियों का तबादला, आदेश जारी

निजी जमीन की मापी भी करा सकेगी सरकार

उन्होने बताया कि सरकार द्वारा वर्ष 2017 में बिहार काश्तकारी अधिनियम 1885 की धारा - 118 संशोधन किया गया है. जिसके मुताबिक कोइ भी रैयत अपनी नीजी जमीन की मापी को उस जमीन पर अधिकार से संबंधित साक्ष्य के साथ आवेदन देकर अंचल अधिकारी के समक्ष जमा करा सकते हैं. किसी सक्षम प्राधिकार का उस जमीन के मामले में कोइ रोक नहीं है, तो अंचलाधिकारी द्वारा आवेदक के अधिकार एवं हक की जांच की जायेगी. वे अमीन फिस लेने के बाद जमीन की मापी का आदेश दे सकते हैं.

पटना में RSS की क्षेत्रीय कार्यकारी मंडल की बैठक आज से, मोहन भागवत होंगे शामिल

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें