नीतीश सरकार के 93 फीसदी मंत्री करोड़पति, 43% पर क्रिमिनल केस हैं दर्ज

Smart News Team, Last updated: 18/11/2020 11:53 PM IST
  • एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक, नीतीश सरकार के 93 फीसदी मंत्री करोड़पति हैं. वहीं 57 फीसदी मंत्रियों पर क्रिमिनेल केस दर्ज हैं और 43 फीसदी मंत्रियों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं.
नीतीश सरकार के 93 फीसदी मंत्री करोड़पति हैं और 43 फीसदी मंत्रियों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं. प्रतीकात्मक तस्वीर

पटना. बिहार में नीतीश कुमार की अगुवाई में एनडीए सरकार भी बना चुकी है. नीतीश कुमार के मंत्रिमंडल में 93 फीसदी मंत्री करोड़पति हैं. एडीआर ने 14 मंत्रियों के शपथ पत्रों का विश्लेषण किया. रिपोर्ट के मुताबिक, 14 में से 13 मंत्री करोड़पति हैं.

एडीआर की इस रिपोर्ट के अनुसार, जदयू के 83 फीसदी मंत्री करोड़पति हैं. इसके अलावा बीजेपी, हम और वीआईपी के सभी विधायक करोड़पति हैं. इनमें सबसे ज्यादा अमीर शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी हैं. मेवालाल चैधरी 12 करोड़ 31 लाख रुपए की संपत्ति के मालिक हैं. वहीं सबसे कम संपत्ति वाले मंत्री अशोक चौधरी हैं. संपत्ति भवन निर्माण व अन्य विभागों के मंत्री अशोक चैधरी के पास 72 लाख 89 हजार रुपए की संपत्ति है.

मंत्री मेवालाल चौधरी आरोपी पाए गए थे, लेकिन जांच के कारण नहीं हुई चार्जशीट- SSP

एडीआर की रिपोर्ट के अनुसार, 57 फीसदी मंत्रियों पर क्रिमिनेल केस दर्ज हैं और 43 फीसदी मंत्रियों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं. नीतीश सरकार के 8 मंत्रियों पर आपराधिक और 6 मंत्रियों पर गंभीर आपराधिक मामले चल रहे हैं. जिसमें जदयू और बीजेपी के 33 फीसदी मंत्रियों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं. एडीआर और इलेक्शन वाॅच ने 243 विधायकों में से 241 विधायकों का भी विशलेषण किया है. इस विश्लेषण के मुताबिक, नवनिर्वाचित 241 विधायकों में से 194 विधायक करोड़पति हैं. 2015 के चुनाव के बाद 243 विधायकों में से 162 विधायक करोड़पति थे. 

नीतीश सरकार की डिप्टी सीएम रेणु देवी समेत मंत्रियों ने पदभार संभाला, देखें फोटो

एडीआर और इलेक्शन वाॅच के इस विश्लेषण के मुताबिक, सबसे ज्यादा विधायक बीजेपी के हैं. बीजेपी के 65 विधायक करोड़पति हैं, जदयू के 38 विधायक करोड़पति हैं. वहीं राजद के 64 और कांग्रेस के 14 विधायक करोड़पति हैं. इसके अलावा वीआईपी के 4 विधायक, लोजपा का 1 और एक निर्दलीय विधायक भी करोड़पति है.

 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें