विधानसभा पिटाई कांड: NDA मीट में RJD विधायकों पर अवमानना एक्शन की मांग उठी

Smart News Team, Last updated: Mon, 26th Jul 2021, 5:05 PM IST
  • बिहार विधानसभा के मानसून सत्र के पहले दिन ही राजद विधायकों ने पहले सत्र में 23 मार्च को हुए मारपीट कांड को लेकर विरोध किया. अब वहीं एनडीए विधानमण्डल दल की बैठक के इस घटना में शामिल होने वाले सभी विधायकों पर अवमानना की कार्रवाई की मांग उठी है.
बिहार विधानसभा पिटाई कांड: NDA मीट में RJD विधायकों पर अवमानना एक्शन की मांग उठी

पटना. बिहार विधानसभा में मानसून सत्र की शुरुआत आज यानी सोमवार 26 जुलाई से हो गई है. आज विधानसभा में राजद विधायकों ने नीतीश सरकार के खिलाफ महंगाई और 23 मार्च को पहले सत्र में हुई विधायकों से मारपीट के मुद्दे को उठाया. वहीं अब एनडीए के नेताओं ने 23 मार्च की घटना में शामिल होने वाले विधायकों पर सदन की अवमानना के लिए कार्रवाई की मांग की है. बता दें कि 23 मार्च को बिहार विधानसभा में विपक्ष के विधायकों के साथ मारपीट हुई थी और पुलिस ने उन्हें धक्का-मुक्की करके सदन से बाहर निकाला था. इस मामले में दो पुलिस वाले दोषी पाए गए जिन्हें निलंबित कर दिया गया है.

बिहार विधानसभा में 23 मार्च को हुए हंगामे को लेकर संसदीय मंत्री विजय चौधरी ने कहा यह मामला पूर्ण रूप से विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा के क्षेत्राधिकार का है. एनडीए विधानमण्डल दल के सदस्यों ने भरोसा जताया कि विधानसभा अध्यक्ष जरूर कार्रवाई करेंगे ताकि ऐसी घटना की दोबारा न हो. 

एनडीए विधानमण्डल दल की यह बैठक करीब ढाई घण्टे चली इस बैठक में बिहार सरकार के मंत्री मुकेश सहनी की पार्टी वीआईपी को छोड़ सभी दलों के विधायक विधान पार्षद शामिल रहे. एनडीए की यह बैठक बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई. इस मुद्दे को लेकर सीएम नीतीश ने कहा कि सत्र छोटा है लेकिन महत्वपूर्ण है.

बिहार विधानसभा के मानसून सत्र में काला मास्क और हेलमेट पहनकर पहुंचे राजद विधायक

इसके साथ ही सीएम ने कहा कि कई विधायकों द्वारा क्षेत्र की समस्या रखे जाने पर उसके समाधान को लेकर अधिकारियों को निर्देश भी दिए गए हैं. विधानसभा के मानसून सत्र के पहले दिन आज 26 जुलाई को राजद विधायक काला मास्क और हेलमेट पहनकर पहुंचे थे. विधायकों ने कहा था कि हमें डर है कि 23 मार्च की घटना दोबारा न हो जाए. 

पूर्व CM और HAM अध्यक्ष मांझी ने फूलन देवी की प्रतिमा जब्त करने की निंदा की

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें