ब्लैक फंगस जैसा घातक और जानलेवा नहीं है व्हाइट फंगस, जानें विशेषज्ञों की राय

Smart News Team, Last updated: Fri, 21st May 2021, 10:29 AM IST
  • पीएमसीएच के चर्म रोग विभाग के वरीय विशेषज्ञ डॉ. अभिषेक झा बताते हैं कि इंसान में व्हाइट फंगस एक चर्म रोग है, जिससे शरीर में उजला चक्ता जैसा बन जाता है और खुजली होती है. यह बीमारी जानलेवा नहीं होती है. उन्होंने आगे बताया कि व्हाइट फंगस से डरने की जरूरत नहीं है.
विशेषज्ञों के मुताबिक, व्हाइट फंगस ब्लैक फंगस जैसा घातक और जानलेवा नहीं है. ( प्रतिकात्मक फोटो)

पटना- कोरोना संक्रमण के बीच ब्लैक फंगस ने डॉक्टरों समेत आम लोगों की टेंशन बढ़ा दी. लेकिन अब व्हाइट फंगस ने भी दस्तक दे दी है. राहत कि बात है कि विशेषज्ञ व्हाइट फंगस को ब्लैक फंगस जैसा घातक और जानलेवा नहीं मान रहे हैं. इसके बारे में पीएमसीएच के चर्म रोग विभाग के वरीय विशेषज्ञ डॉ. अभिषेक झा बताते हैं कि इंसान में व्हाइट फंगस एक चर्म रोग है, जिससे शरीर में उजला चक्ता जैसा बन जाता है और खुजली होती है. यह बीमारी जानलेवा नहीं होती है.

उन्होंने आगे बताया कि व्हाइट फंगस से डरने की जरूरत नहीं है. एक अच्छे चर्म रोग विशेषज्ञ से सलाह लेकर इस बीमारी को मात दिया जा सकता है. वह आगे बताते हैं कि फंगस की बीमारी कोई नई नहीं है. स्किन के साथ कान में भी फंगस जमा हो जाता है. फंगस जनित बीमारियों में ब्लैक फंगस ही फिलहाल सबसे घातक नजर आ रहा है. भले ही यह बीमारी संक्रामक नहीं है लेकिन जानलेवा है. विशेषज्ञ बताते हैं कि व्हाइट फंगस 2008 में अमेरिका और कनाडा में चमगादड़ों में मिला था. साल 2018 में इन दोनों देशों में कुछ इंसानों में भी इस बीमारी की पुष्टि हुई थी.

पारस अस्पताल के खिलाफ सोशल मीडिया पर 'शट डाउन पारस हॉस्पिटल' कैंपेन तेज

एम्स पटना के कोरोना के नोडल पदाधिकारी सह वरीय हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. संजीव कुमार ने कहा कि पटना समेत पूरे देश में अभी व्हाइट फंगस से फेफड़े में संक्रमण की सूचना नहीं मिली है. उन्होंने आगे बताया कि कोरोना संक्रमण से पीड़ित कमजोर इम्युनिटी वाले डायबिटीज मरीज अथवा अंग प्रत्योरोपण करा चुके मरीज ही ब्लैक फंगस के शिकार पाए जा रहे हैं.

BJP बिहार अध्यक्ष का तेजस्वी पर वार, बोले- उद्देश्य सेवा नहीं, छपास है

बिहार के एक लाख से ज्यादा शिक्षकों पर कसा शिकंजा, ये काम नहीं करना पड़ेगा महंगा

बिहार में अब कोरोना के साथ ब्लैक फंगस का भी कहर, बुधवार को मिले इतने नए मरीज

पटना सर्राफा बाजार में 21 मई को सोने की रफ्तार बढ़ी चांदी की गति हुई धीमी

पेट्रोल डीजल 21 मई का रेट: पटना, मुजफ्फरपुर, भागलपुर, पूर्णिया, गया में महंगा हुआ तेल

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें