बिहार चुनाव: मांझी, कुशवाहा के बाद माले का महागठबंधन से किनारा, पहली लिस्ट जारी

Smart News Team, Last updated: Wed, 30th Sep 2020, 6:45 PM IST
  • बिहार विधानसभा चुनाव से पहले महागठबंधन को एक और झटका लगा. बुधवार को भाकपा माले ने महागठबंधन छोड़कर अलग से 30 सीटों पर पहली लिस्ट जारी की. इससे पहले जीतनराम मांझी और उपेन्द्र कुशवाहा भी महागठबंधन का साथ छोड़ चुके हैं.
बुधवार को माले ने महागठबंधन का साथ छोड़कर 30 विधानसभा सीटों पर अपनी पहली लिस्ट जारी की.

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव से पहले महागठबंधन को एक और झटका लगा. जीतनराम मांझी की हम और उपेन्द्र कुशवाहा की रालोसपा के बाद अब माले ने भी महागठबंधन से नाता तोड़ लिया है. भाकपा माले ने बुधवार को 30 विधानसभा सीटों की पहली सूची कर दी है. पार्टी ने कहा कि अगर आगे तालमेल की संभावना बनती है तो पार्टी उस पर विचार करेगी.

भाकपा माले के पार्टी राज्य सचिव कुणाल ने बुधवार को सीटों को जारी करते हुए कहा कि ये पहली सूची है जहां से हमारे उम्मीदवार चुनाव लड़ेंगे. कुणाल ने कहा कि सीटों को लेकर माले और राजद के बीच कई बार बातचीत हुई. हमने अपनी सीटों को घटाकर 30 कर लिया था. बाद में बातचीत हमने 20 सीटों पर प्रस्ताव रखा लेकिन राजद ने माले के जनाधारे वाले जिलों की उपेक्षा की. 

भाजपा ने देवेंद्र फडणवीस को दी नई जिम्मेदारी, बनाया बिहार चुनाव का प्रभारी

कुणाल ने कहा कि राजद ने हमें जो सीटें देने का प्रस्ताव रखा था वो हमारे जनाधार वाले जिलों में शामिल नहीं थे. इसलिए हमने अलग से उन सीटों पर अपनी पहली लिस्ट जारी कर दी है. माले ने जिन सीटों की लिस्ट की जारी की है उनमें तरारी ,अगिआंव, जगदीशपुर, संदेश, आरा, दरौली, जिरादेई, रघुनाथपुर, बलरामपुर, पालीगंज, मसौढ़ी, फुलवारीशरीफ, काराकाट, ओबरा, अरवल, घोसी, सिकटा, भोरे,  कुर्था, जहानाबाद, हिलसा, इसलामुपर, हायाघाट,  वारिसनगर, औराई,  गायघाट, बेनीपट्टी, शेरघाटी, डुमरांव और चैनपुर शामिल हैं.

बिहार चुनाव: अपनी मांग के साथ निर्वाचन आयोग से मिले पार्टियों के प्रतिनिधिमंडल

आपको बता दें कि इससे पहले जीतनराम मांझी महागठबंधन को छोड़कर बीजेपी-जेडीयू के गठबंधन में शामिल हुए. उसके बाद रालोसपा प्रमुख उपेन्द्र कुशवाहा ने महागठबंधन को छोड़कर मायावती की बसपा और संजय चौहान की जेपीएस के साथ मिलकर चौथे मोर्चे का ऐलान कर दिया. उसके बाद अब माले ने भी महागठबंधन का साथ छोड़ दिया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें