पटना: वीआरएस लेने के बाद रात तक लोगों से मिले पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय

Smart News Team, Last updated: 24/09/2020 08:58 AM IST
  • बिहार डीजीपी पद से इस्तीफा देने यानी स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस) लेने के बाद बुधवार को गुप्तेश्वर पांडेय का दिन पहले के मुकाबले बिल्कुल अलग सा रहा. योग सत्र के बाद उन्होंने मीडिया के सवालों का जवाब दिया. जिसमें उनके राजनीतिक भविष्य को लेकर भी सवाल पूछे गए.
वीआरएस लेने के बाद रात तक लोगों से मिले पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय.

पटना. मंगलवार को बिहार डीजीपी पद से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस) लेने के बाद बुधवार को गुप्तेश्वर पांडेय का दिन पहले के मुकाबले बिल्कुल अलग सा रहा. नौकरी छोड़ने के एक दिन में ही गुप्तेश्वर पांडेय का बिल्कुल बदला हुआ अंदाज दिखा. अपनी बेबाक बातों के लिए के लिए प्रसिद्ध गुप्तेश्वर पांडेय के दिन की शुरुआत काले रंग के ट्रैक शूट और गमछा में योगासन से हुई. जब तक उनका योगा सत्र खत्म हुआ वह मीडिया और परिचितों से घिरे हुए थे. 

गुप्तेश्वर पांडेय ने इस दौरान बात करते हुए एक बार फिर एक्टर सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में बिहार पुलिस की कारवाई पर उन्होंने अपना पक्ष रखा. अपने नौकरी से इस्तीफे पर राजनीतिक बयानबाजी करने वालों को भी उन्होंने आड़े हाथों लिया. उन्होंने कहा कि अगर हम लोगों ने लड़ाई नहीं लड़ी होती तो सुशांत के मौत का मामला कबका खत्म हो चुका होता. 

बिहार चुनाव: डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय का वीआरएस, एसके सिंघल नए पुलिस महानिदेशक

उन्होंने कहा कि बिहार पुलिस एफआईआर नहीं करती तो जांच आगे ही नहीं बढ़ता और कुछ नहीं होता. आज इस मामले में जो कुछ भी हुआ है, उसका श्रेय बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को जाता है. उन्हीं की वजह से आज यह मामला यहां तक पहुंचा हैं. 

इस दौरान बातचीत में पूर्व डीजीपी ने राजनीति में आने और चुनाव लड़ने के सवाल पर अपने पत्ते नहीं खोले. जब उनसे सवाल किया गया कि क्या आप चुनाव लड़ रहे है. उन्होंने कहा कि क्यों हमारे जैसे लोग राजनीति में नहीं आ सकते क्या? उन्होंने यह नहीं बताया कि किस पार्टी से और कहां से चुनाव लड़ेंगे. बता दें कि उनके स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस) लेने पर यह चर्चा हर तरफ जोरों पर है कि वह चुनावी मैदान में उतरने वाले हैं. लेकिन पूर्व डीजीपी इसे लेकर कोई भी पत्ता खोलने से बच रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें