पटना एयरपोर्ट: कोहरे के कारण विमानों को लैंडिंग में हो रही दिक्कत, 29 फ्लाइट लेट

Smart News Team, Last updated: 08/12/2020 09:56 AM IST
  • कम विजिबिलिटी के कारण पटना एयरपोर्ट पर फ्लाइट को उतरने में दिक्कते हो रही है. जिसका खामियाजा यात्रियों को भुगतना पड़ रहा है. सोमवार को 29 फ्लाइट लेट हुए. सबसे ज्यादा दिक्कते उन यात्रियो को आयी जिनको दूसरे शहरो के लिए फ्लाइट पकड़नी थी.
सर्दियों में कोहरे के कारण फ्लाइट को पटना एयरपोर्ट पर उतरने में परेशानी हो रही है.

पटना: सर्दिया शुरु होते ही पटना एयरपोर्ट पर विमान का लेट पहुंचना शुरु हो गया है. सोमवार को लगातार चौथे दिन भी एयरपोर्ट पर लेट हुए. सोमवार को कोहरे की वजह से पटना एयरपोर्ट की विजिबिलिटी 1000 मीटर से भी कम रही. जिसके कारण फ्लाइट को एयरपोर्ट पर उतरने में खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ा. पटना एयरपोर्ट द्वारा हर बार यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ता है. एयरपोर्ट पर रात नौ बजे तक कुल 29 विमान लेट हो चुके थे. सबसे ज्यादा दिक्कते अहमदाबाद से पटना आने वाले यात्रियों को हुई.

एयरपोर्ट अथॉरिटी द्वारा हर साल विमानो को कम विजिबिलिटी में उतारने का वादा किया जाता है. लेकिन हर बार वह दावें हवा हो जाते है. जिसका खामियाजा यात्रियों को उठाना पड़ता है. पिछले बर्ष अथॉरिटी द्वारा एप्रोच लाइट का प्रयोग करके 700 मीटर से भी कम विजिबिलिटी में फ्लाइट को उतारने का वादा किया गया था. इस बार भी वह वादा पूरा होता नहीं दिख रहा है. यात्रियो का कहना है हर बार एयरपोर्ट अथॉरिटी चुप्पी साध लेती है.

पटना में पराली जलाने पर 26 किसानों पर जुर्माना, वायु प्रदूषण AQI 354 बहुत खराब

यात्रियों ने कहा है कि देश के अन्य एयरपोर्ट पर पांच सौ से सात सौ मीटर से भी कम विजिबिलिटी में विमान उतर जाते हैं. सबसे ज्यादा परेशानी उन यात्रियों को होती है जिन्हें अन्य शहर के लिए फ्लाइट पकड़नी होती है. हर बार अथॉरिटी मौसम का बहाना बनाकर निकल जाता है. जानकारी के अनुसार पटना एयरपोर्ट पर फ्लाइट के लेट उतरने से हर रोज लगभग दौ से तीन हजार लोगों प्रभावित हो रहे है. बता दें कि इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट दिल्ली पर 50 मीटर से कम में भी विमान को उतारा जा सकता है.

Bharat Band: आठ दिसंबर को किसान आंदोलन के बीच जानें क्या रहेगा बंद और क्या खुला

CBSE 10-12 वीं प्री बोर्ड परीक्षा होगी ऑफलाइन, ऑनलाइन के लिए बताना होगा ठोस वजह

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें