AKU के इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रदर्शनकारी छात्रों पर पुलिस का लाठीचार्ज, स्टूडेंट का टूटा हाथ

Ankul Kaushik, Last updated: Tue, 7th Sep 2021, 3:40 PM IST
  • एकेयू के इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्र पहले सेमेस्टर के छात्रों को प्रमोट करने के लिए विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. विरोध प्रदर्शन कर रहे छात्र कई दिनों से प्रोमोट करने की मांग कर रहे हैं. वहीं इन छात्रों पर पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया है और इसमे एक छात्र का हाथ टूट गया है.
एकेयू इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रों ने किया प्रदर्शन

पटना. आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय के छात्र विवि प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं. एकेयू के इंजीनियरिंग कॉलेज के विरोध कर रहे छात्रों की मांग है कि चौथे और छठे सेमेस्टर के छात्रों को प्रोमोट करने के बाद अब पहले सेमेस्टर के छात्रों को प्रमोट किया जाए. क्योंकि पहले सेमेस्टर के छात्रों की परीक्षा अभी लंबित है इसलिए विरोध कर रहे छात्र कई दिनों से प्रोमोट करने की मांग को लेकर विरोध कर रहे हैं. वहीं आंदोलनकारी छात्र विवि प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते दिखे और छात्रों के हंगामे को देखते हुए पुलिस मौके पर पहुंची. पुलिस ने घटना स्थल पर पहुंचकर विरोध प्रदर्शन कर रहे छात्रों को पहले समझाया और इसके बाद जब छात्र नहीं माने तो पुलिस ने लाठी चार्ज करके छात्रों की भीड़ को तितर बितर किया. पुलिस द्वार की गई लाठी चार्ज में एक छात्र का हाथ भी टूट गया. इसके साथ ही कई छात्रों को चोट भी आईं.

पुलिस ने विवि प्रशासन के खिलाफ विरोध कर रहे कुछ छात्रों को हिरासत में भी लिया है. विरोध कर रहे छात्रों ने बताया कि पहले ही फर्स्ट सेमेस्टर के छात्रों का सत्र आठ महीने लेट हो चुका है. अगर इस सेमेस्टर की परीक्षा की गई तो रिजल्ट आने में भी एक महीने से अधिक समय लग जाएगा इसलिए छात्रों को इंटर्नल मार्क्स के आधार पर प्रोमोट कर देना चाहिए.

 

BJP पर तेजस्वी यादव ने साधा निशाना, कहा- किसानों का नहीं हो रहा भला, खाद की कालाबाजारी चरम पर

वहीं एकेयू के इंजीनियरिंग कॉलेज के प्रदर्शनकारी छात्रों के विरोध को लेकर आर्यभट्ट ज्ञान विवि के परीक्षा नियंत्रक राजीव रंजन ने कहा कि छात्रों की मांग विवि के एक्जामिनेशन बोर्ड के विचाराधीन है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि छात्रों अपनी मांग को लेकर विवि प्रशासन से मिल चुके हैं और उनकी मांगों पर विचार किया जा रहा है. छात्रों की परीक्षा कोराना काल के कारण लंबित हुई थी क्योंकि उस समय परीक्षा नहीं हो सकती थी. इसके साथ ही छात्रों को प्रमोट करने के बारे में बताते हुए राजीव रंजन ने कहा कि छात्र पहले समेस्टर के हैं इसलिए उन्हें प्रमोट नहीं किया जा सकता है क्योंकि अगर इंटरनल मार्क्स के आधार पर प्रोमोट कर भी दिया जाये तो छात्रों के अंक में बड़ा डिफरेंस हो जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें