बढ़ते कोरोना के चलते 12 मई तक पटना के सभी कोर्ट बंद, वर्चुअल कार्य पर भी लगी रोक

Smart News Team, Last updated: 03/05/2021 03:02 PM IST
पटना के सभी सिविल कोर्ट और अनुमंडल कोर्ट में चल रहे न्यायिक कार्य 12 मई तक के लिए बंद कर दिए गए हैं. इसके अलावा कोर्ट परिसर में एंट्री पर भी सशर्त रोक लगा दी गई है. इसके साथ ही वर्चुअल न्यायिक कार्य भी रोक लगा दी गई है.
12 मई तक पटना के सभी कोर्ट बंद कर दिए गए हैं.

पटना. राजधानी में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. इसे देखते हुए पटना के सभी सिविल कोर्ट और अनुमंडल कोर्ट में चल रहे न्यायिक कार्य 12 मई तक के लिए बंद कर दिए गए हैं. इसके अलावा कोर्ट परिसर में एंट्री पर भी सशर्त रोक लगा दी गई है. रोक लगाने के साथ ही अब वर्चुअल न्यायिक कार्य भी नहीं किया जाएगा.

कोरोना की दूसरी लहर के चलते पटना जिला एवं सत्र न्यायाधीश सुनील दत्त मिश्रा ने जिले के सभी सिविल कोर्ट और अनुमंडल कोर्ट में चल रहे वर्चुअल न्यायिक कार्य भी बंद कर दिये हैं. इस स्थिति में 12 मई तक किसी भी केस की सुनवाई नहीं हो पाएगी. इसके साथ ही कोर्ट परिसर में भी 3 मई से लेकर 12 मई तक प्रवेश पर भी रोक लगा दी गई है. जारी आदेश के अनुसार कोरोना चेन को तोड़ने के लिए पटना उच्च न्यायालय से निर्देश प्राप्त कर कोर्ट को सोमवार से 12 मई तक के लिए बंद किया गया है. आपको बता दें कि कोर्ट के मुख्य प्रवेश द्वार पर सुरक्षाकर्मियों और पुलिसकर्मियों को तैनात कर दिया गया है.

गौरतलब है कि इस दौरान आपराधिक मामलों में गिरफ्तार आरोपितों को रिमांड पर लेने वाले मामले में रोक नहीं होगी लेकिन इसके अलावा सभी न्यायिक कार्यों पर फिलहाल रोक लगी रहेगी. जिला न्यायाधीश ने सभी न्यायिक पदाधिकारियों और कर्मियों को निर्देश दिया है कि वो अपने फोन नंबर को हमेशा खुला रखें ताकि अगर उनकी जरूरत पड़ने पर उन्हें कॉल किया जा सके.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें