सड़क हादसे में घायलों को अस्पताल पहुंचाने पर एंबुलेंस ड्राइवर को नीतीश सरकार देगी किराया

Smart News Team, Last updated: Sun, 1st Aug 2021, 3:42 PM IST
  • सड़क हादसे में घायल लोगों को हॉस्पिटल पहुंचाने पर एंबुलेंस चालकों को नीतीश सरकार किराया देगी. साथ ही बिहार की सरकारी और निजी एंबुलेंसों को टोल फ्री नंबर से ही जोड़ा जाएगा.
घायलों को अस्पताल पहुंचाने पर एंबुलेंस चालक को मिलेगा किराया (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पटना. सड़क हादसे में घायल लोगों को सही समय पर इलाज नहीं मिलने के कारण हर साल हजारों लोगों की मौत होती है. देशभर के आंकड़ों की तुलना में सड़क दुर्घटना में सबसे अधिक मौतें बिहार में होती है. इन आंकड़ों में कमी लाने के लिए परिवहन विभाग ने एक अहम निर्णय लिया है. इसके तहत सड़क दुर्घटना में घायल लोगों को अस्पताल पहुंचाने पर एंबुलेंस चालकों को बिहार सरकार की ओर से किराया दिया जाएगा. इसके साथ ही बिहार की निजी और सरकारी एंबुलेंसों को टोल फ्री नंबर से भी जोड़ा जाएगा.

परिवहन सचिव संजय अग्रवाल ने अधिकारियों के साथ बैठक करके फैसला लिया. जिसके तहत सड़क हादसे में घायल लोगों को यदि कोई भी एंबुलेंस चालक समय पर अस्पताल पहु्ंचाता है तो उसे घटनास्थल से अस्पताल तक का किराया बिहार सरकार देगी. एंबुलेंस ड्राइवरों को यह राशि परिवहन विभाग की ओर से सड़क सुरक्षा निधि से दी जाएगी. जानकारी के मुताबिक बिहार में वर्तमान में एडवांस लाइफ सपोर्ट सिस्टम की 76 एंबुलेंस उपलब्ध हैं. वहीं बेसिक लाइफ सपोर्ट सिस्टम की 976 एंबुलेंस हैं. इसके अलावा मुख्यमंत्री परिवहन योजना के तहत भी बिहार में 1000 से ज्यादा एंबुलेंस खरीदने की योजना है. हाल ही में 350 से अधिक एंबुलेंस को आम लोगों के लिए उपलब्ध कराया गया है.

नीतीश सरकार ने निकालीं बंपर वैकेंसी, इस विभाग में होंगी 9570 पदों पर भर्तियां, जानें डिटेल

बिहार में सरकारी और प्राइवेट एंबुलेंस को एक ही नंबर से जोड़ने की भी परिवहन विभाग तैयारी कर रहा है. इसके तहत स्वास्थ्य विभाग के अधीन चल रही एंबुलेंस के साथ ही राज्य में चल रही निजी एंबुलेंस को भी एक ही टोल फ्री नंबर से जोड़ा जाएगा. फिलहाल राज्य में करीब 1000 प्राइवेट एंबुलेंस चल रही है. सभी एंबुलेंस को एक ही टोल फ्री नंबर से जोड़ने का फायदा यह होगा कि लोगों को एक ही नंबर डायल करने पर एंबुलेंस मुहैया कराई जा सकेगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें