पटना: कोरोना की वजह से PPU में परीक्षा नहीं, अंकों के आधार पर होगा दाखिला

Uttam Kumar, Last updated: Wed, 5th Jan 2022, 10:10 AM IST
  • कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय(पीपीयू) में इस साल पीजी में नामांकन के लिए प्रवेश परीक्षा नहीं आयोजित किया जाएगा. पीजी कोर्स में नामांकन के लिए 15 जनवरी से आवेदन प्रक्रिया शुरू होग. इस बार नामांकन स्नातक के अंक के आधार पर होगा.
पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय में इस साल पीजी में नामांकन के लिए प्रवेश परीक्षा नहीं आयोजित किया जाएगा. (फाइल फोटो)

पटना: कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय(पीपीयू) में इस साल पीजी में नामांकन के लिए प्रवेश परीक्षा का आयोजन नहीं किया जाएगा. इस बार पीजी की सभी कोर्स में स्नातक के अंकों के आधार पर नामांकन होगा. विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ जितेन्द्र कुमार के अनुसार करोना के बढ़ते संक्रमण की स्थिति में परीक्षा लेना उचित नहीं है. पहले से ही पीजी का सत्र विलंब है. प्रवेश परीक्षा के आधार पर नामांकन लेने में अधिक समय लगता है. दोनों बातों को ध्यान में रखकर यह निर्णय लिया गया है. स्नातकोत्तर में नामांकन के लिए आवेदन की प्रक्रिया 15 जनवरी से शुरू कर दी जाएगी. इससे पहले सभी स्नातक का रिज़ल्ट भी घोषित कर दिया जाएगा. 

विवि के डीन डॉ एके नाग के अनुसार विश्वविद्यालय स्तर पर पीजी में 18 विषयों में की पढ़ाई होती है. इनमें 30 फीसदी सीटें निर्धारित हैं. इसके अलावा कॉलेज में एमकॉम, एमएससी और एमए पीजी कोर्स में अलग से सीटें हैं. सभी कॉलेज से कुल सीटें का ब्योरा एक सप्ताह के अंदर मांग लिया जाएगा. इससे पहले वीवी का प्रयास है कि है 10 जनवरी तक स्नातक के सभी संकायों की रिज़ल्ट दे दिया जाए. उसके बाद नामांकन के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरू की जाएगी. पीजी में लगभग 3000 सीटें होंगी.  

बिहार में भी नाइट कर्फ्यू, नीतीश की समाज सुधार यात्रा, जनता दरबार रद्द, पार्क, जिम, मॉल बंद

डीन डॉ एके नाग के अनुसार विश्वविद्यालय में स्नातक कोर्स बीए, बीकॉम और बीएससी पार्ट वन के छात्रों के लिए रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू हो गई है. सभी कॉलेज अपने छात्र - छात्राओं का रजिस्ट्रेशन करा लें. या छात्र अपना रजिस्ट्रेशन खुद भी कर सकते हैं. इसके लिए 15 जनवरी आखिरी तिथि है. किसी भी हालत में रजिस्ट्रेशन की तिथि आगे नहीं बढ़ाई जाएगी.  

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें