साइक्लोन यास: पटना से पश्चिम बंगाल को रवाना हुआ NDRF का एक और बचाव दल

Smart News Team, Last updated: Sun, 23rd May 2021, 11:59 PM IST
  • पश्चिम बंगाल में चक्रवाती तूफान यास से निपटने के लिए बिहटा के सिकंदरपुर स्थित 9वी वाहिनी एनडीआरएफ की पांच टीम बंगाल के लिए रवाना किया गया. एनडीआरएफ के द्वितीय कमान अधिकारी हरविंदर सिंह के नेतृत्व में ये टीम रवाना हुई. जो अत्याधुनिक उपकरणों से लैस है.
साइक्लोन यास: पटना से पश्चिम बंगाल को रवाना हुआ NDRF का एक और बचाव दल

पटना: पटना: कोरोना महामारी के बीच एक दूसरी प्राकृतिक आपदा चक्रवाती तूफान यास ने दबे पांव बंगाल में दस्तक दे रही है. जिसको लेकर सरकार पहले से सतर्क नजर आ रही है. किसी भी तरह के दुर्घटना से निपटने के लिए राष्ट्रीय आपदा बचाव बल ( एनडीआरएफ) को पश्चिम बंगाल में तैनात किया जा रहा. एनडीआरएफ की पांच टीम रविवार को पश्चिम बंगाल के अलग-अलग जिलों में तैनात किया जा रहा है.

पश्चिम बंगाल में चक्रवाती तूफान यास से निपटने के लिए बिहटा के सिकंदरपुर स्थित 9वी वाहिनी एनडीआरएफ की पांच टीम बंगाल के लिए रवाना किया गया. एनडीआरएफ के द्वितीय कमान अधिकारी हरविंदर सिंह के नेतृत्व में ये टीम रवाना हुई. जो अत्याधुनिक उपकरणों से लैस है.

गुड न्यूज: बिहार में लगातार गिर रहा कोरोना ग्राफ, पटना में 4002 नए कोविड केस

मौके पर मौजूद कमांडेंट विजय सिन्हा ने बताया कि मुख्यालय के आदेशानुसार पश्चिम बंगाल में आ रहे यास चक्रवात से निपटने के लिए बिहटा में सिकंदरपुर स्थित एनडीआरएफ के 9वीं वाहिनी के पांच टीम को भेजा गया है. जिसे पश्चिम बंगाल के कोलकात्ता, उत्तर और दक्षिण 24 परगना जिलों में तैनाती की जाएगी. जिसमें कुल 145 बचावकर्मी शामिल हैं.

मानसून आने की सूचना लेकर आए ओपन बिल्ड स्टॉक पक्षी,लोगों को अच्छी बारिश की उम्मीद

नौसेना ने तैनात किए चार युद्ध पोत

बंगाल की खाड़ी में बन रहे चक्रवाती तूफान 'यास' के संभावित खतरे से निपटने के लिए भारतीय नौसेना ने अपने चार युद्धपोतों के अलावा कई विमानों को भी तैनात किया है. इस सप्ताह की शुरुआत में देश के पश्चिमी तट पर आए भीषण चक्रवात 'ताउते' के बाद भारतीय नौसेना ने बड़े पैमाने पर राहत और बचाव अभियान चलाया था. चक्रवात के कारण महाराष्ट्र, गुजरात, केरल, कर्नाटक और गोवा में भारी तबाही हुई थी.

पटना के PHC में लगेंगे ऑक्सीजन वाले बेड, कोरोना मरीजों को नहीं होगा अब भटकना

नौसेना ने कहा कि तूफान के संभावित खतरे से निपटने के लिए बाढ़ राहत और बचाव की आठ टीमों के अलावा गोताखोरों की चार टीमों को ओडिशा और पश्चिम बंगाल में भेजा गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें