दुर्लभ बीमारी से जूझ रहे अयांश की मां ने लगाई मदद की गुहार, 16 करोड़ की जरूरत

Smart News Team, Last updated: Fri, 30th Jul 2021, 10:38 AM IST
  • दस माह का अयांश एक दुर्लभ बीमारी से जूझ रहा है. जिसका नाम स्पाइनल मस्कुलर एट्रॉफी एसएमए है. इस बीमारी के इलाज के लिए एक 16 करोड़ के इंजेक्शन की जरूरत है.अयांश के माता-पिता ने क्राउड फंडिंग के माध्यम से देश वासियों से मदद की अपील की है. 
मां के गोद में  अयांश

पटना:दस माह का अयांश एक दुर्लभ बीमारी से जूझ रहा है. जिसे ठीक करने के लिए दुनियां में एक ही इंजेक्शन है. जिसकी कीमत करीब 16 करोड़ रूपए है. अब इतनी बड़ी कीमत को लेकर अयांश के माता-पिता परेशान हैं. 16 करोड़ की रकम जमा करने के लिए अयांश के परिजनों ने क्राउड फंडिंग का सहारा लेते हुए लोगों से मदद की अपील की है. इसके साथ ही प्रदेश के मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री से भी मदद की गुहार लगाई है.

बिहार के रूकसपुर थाना क्षेत्र के रूकनपुर निवासी आलोक सिंह और नेहा सिंह के दस माह के बेटे अयांश एक बेहद गंभीर बीमारी से जूझ रहा है. जिस बीमारी का नाम स्पाइनल मस्कुलर एट्रॉफी एसएमए है. यह बीमारी लाखों बच्चों में से किसी एक को होता है. जिसमें बच्चे के शरीर का अंग धीरे-धीरे काम करना बंद कर देता है. मेडिकल एक्सपर्ट का कहना है कि इस बीमारी से जूझ रहे बच्चे ज्यादा समय तक सर्वाइव नहीं कर पाते हैं और जन्म से लेकर दो साल के भीतर दम तोड़ देते हैं. वहीं अगर सही समय पर सही ढंग से इलाज मिल जाए तो बच्चे को एक नया जीवन मिल सकता है.अयांश के माता-पिता एक मध्य वर्ग परिवार से ताल्लुक रखते हैं. जिसके लिए 16 करोड़ रूपए मूल्य का इंजेक्शन जुटा पाना बहुत मुश्किल है. नेहा और आलोक ने क्राउड फंडिंग की अपील की है और उन्हें विश्वास है कि देशवासी उनकी जरूर मदद करेंगे.

दस माह का अयांश फिलहाल बेंगलुरु के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरो साइंसेज से इलाज चल रहा है. अयांश की मां नेहा ने बताया कि जब अयांश दो महीने का था तब उसके इस बिमारी के बारे में पता चला. अभी वह दस महीने का हो गया है लेकिन वह कुछ नहीं कर पाता है. नेहा ने आगे बताया कि अभी अयांश के गर्दन का एक भाग अब काम करना बंद कर चुका है.

ऑपरेशन के लिए डॉक्टर ने चीरा मासूम का पेट, बोले- ये चीज बच्चों में पहली बार देखी

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें