पटना: PM मोदी की बिहार को चुनावी सौगात का दूसरा चरण 15 सितंबर को

Smart News Team, Last updated: Fri, 11th Sep 2020, 12:38 PM IST
  • पीएम नरेंद्र मोदी 15 सितंबर को नगर विकास की अरबों की योजनाओं का उद्घाटन-शिलान्यास करेंगे. इसमें नमामि गंगे और अमृत योजनाओं के तहत जल और सीवर के काम से जुड़ी पटना, सीवान, छपरा, मुंगेर, जमालपुर, मुजफ्फरपुर की कुल आठ योजनाएं शामिल हैं. P
पीएस नरेंद्र मोदी

पटना. बिहार में 15 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जलापूर्ति और सीवर से जुड़ी आठ परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास करेंगे. इन परियोजनाओं की कुल लागत अरबों रुपये है. यह परियोजनाएं केन्द्र सरकार की महत्वकांक्षी नमामि गंगे और अमृत योजना से जुड़ी है. इसमें जल और सीवर से जुड़ी पटना के बेऊर और कर्मलीचक सीवर ट्रीटमेंट प्लांट के अलावा छपरा, सीवान, मुंगेर, मुजफ्फरपुर, जमालपुर से जुड़ी परियोजनाएं शामिल हैं.

गर्भवती बहन को भाई ने रिश्तेदारों संग मिलकर मार डाला, बोला नहीं समझती थी बात

बिहार राज्य में प्रधानमंत्री के हाथों विभिन्न विभागों से जुड़ी केंद्रीय परियोजनाओं के कार्यों का शुभारंभ कराए जाने का सिलसिला गुरुवार से शुरू हो गया. अब इसी के तहत प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा 15 सितंबर को नगरीय विकास से जुड़ी परियोजनाओं के उद्घाटन-शिलान्यास की तिथि तय की गई है. तिथि तय होते ही विभिन्न विभाग भी तैयारीयों में जुट गए हैं.

बता दें कि नमामि गंगे परियोजना के तहत राजधानी पटना सहित राज्य में सीवर से जुड़ी परियोजनाएं इसमें ली गई हैं. यह परियोजनाएं गंदे नालों और गंदगी को सीधे गंगा सहित दूसरी नदियों में गिरने से रोकेंगी. इसके अलावा कुछ शहरों में अमृत के तहत भी जलापूर्ति की योजनाएं संचालित हैं. पीएम मोदी केंद्रीय योजनाओं से हुए छह कार्यों का उद्घाटन और दो का शिलान्यास  करने वाले हैं.

पटना: बैंक और चुनाव आयोग अधिकारी समेत एक साथ तीन के घरों से लाखों का माल चोरी

प्रधानमंत्री के हाथों नमामि गंगे और अमृत के तहत जिन परियोजनाओं का शुभारंभ होना है, उसमें से छह का उद्घाटन होगा. इनमें पटना के बेऊर और कर्मलीचक का सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट, नगर परिषद सीवान की जलापूर्ति योजना, बक्सर नगर परिषद की जलापूर्ति योजना, छपरा और मुंगेर नगर निगम की जलापूर्ति योजना शामिल हैं. इसके अलावा मुजफ्फरपुर में रिवर फ्रंट विकसित करने और जमालपुर नगर परिषद की जलापूर्ति योजना की नींव रखी जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें