Bharat Band: आठ दिसंबर को किसान आंदोलन के बीच जानें क्या रहेगा बंद और क्या खुला

Smart News Team, Last updated: 07/12/2020 11:09 PM IST
कृषि कानूनों के विरोध में 8 दिसंबर को राज्य में बंदी के लिए किसानों ने साझा रुख अपनाया हुआ. जिसके चलते कुछ अति आवश्यक कार्य जारी रहने वाले हैं और खाने-पीने की थोड़ी बहुत चीज़ों पर रोक रहेगी. जिसके बारे में सिंघु बॉर्डर पर डटे किसान नेताओं ने स्पष्ट किया.
कृषि कानून के खिलाफ किसानों की एकजुटता

पटना: देशभर में किसानों ने आठ दिसंबर को भारत बंद का आह्वान किया हुआ है. जिसके चलते राज्य में कई चीज़ों की सुविधा मिलेंगी और कुछ की नहीं मिलेगी. लेकिन, जो ज़रुरी आवश्यकताएं हैं उनपर रोक नहीं है. इस बात को खुद सिंघु बॉर्डर पर बैठे किसान नेताओं ने प्रेस कांफ्रेंस के जरिए बताया. उनके इस देश व्यापी बंदी को अब कई राजनीतिक दलों ने अपना समर्थन भी दिया है. किसानों के बॉर्डर पर डटे रहने का सोमवार को 12वां दिन हो गया है.

वहीं, प्रेस कांफ्रेंस कर किसान नेता डॉ दर्शन पाल ने बताया कि भारत बंद करने का शांतिपूर्ण आह्वान किया गया है. साथ ही उन्होंने कहा कि अपील है सभी से कि इसे ज़ोर-ज़बरदस्ती से न करें. इसके साथ ही उन्होंने राजनीतिक दलों के समर्थन पर धन्यवाद दिया. साथ ही उन्होंने नेताओं को हिदायत दी कि जब किसान आंदोलन में शामिल होने के लिए आएं तो अपना झंडा घर छोड़कर आएं. 

टाइम पर यूनिवर्सिटी एग्जाम, सत्र की लंबित परीक्षा लें विश्वविद्यालय: राजभवन

आपको बता दें कि मंगलवार को दोपहर तीन बजे तक चक्का जाम रहेगा. जिसके चलते दूध, सब्जी और फल की आपूर्ति नहीं होगी. इनके अलावा शादियों, एंबुलेंस और अति आवश्यक कामों को भी जारी रखने की अनुमति है. स्थिति को स्पष्ट तरीके से बताते हुए राजनेता योगेंद्र यादव ने कहा, आठ तारीख को सुबह से शाम तक पूरे भारत बंद रहने वाला है.

BJP नेता सुशील मोदी बिहार से राज्यसभा पहुंचे, लालू यादव के रिकॉर्ड की बराबरी की

वहीं, सोमवार को दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल के पहुंचने पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया कि 23 नवंबर को कृषि कानून को दिल्ली में लागू किया और गजट जारी कर दिया. लेकिन, किसानों का साथ देने के लिए मुख्यमंत्री आज सिंघु बॉर्डर पहुंच गए. जिसे देखते हुए उन्होंने कहा सिर्फ पीएम नरेंद्र मोदी और बीजेपी के खिलाफ केजरीवाल ने मंच साझा किया.

पटना में पराली जलाने पर 26 किसानों पर जुर्माना, वायु प्रदूषण AQI 354 बहुत खराब

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |