खुशखबरी! बिहार के 80 बच्चे मुफ्त में करेंगे आईआईटी- नीट की तैयारी, यहां करें आवेदन

Sumit Rajak, Last updated: Tue, 1st Feb 2022, 8:11 AM IST
  • बिहार के 80 गरीब बच्चे को मुफ्त में आईआईटी और नीट की तैयारी कराई जाएगी. ‘आइए प्रेरित करें बिहार' (लेट्स इंस्पायर बिहार) अभियान के तहत आर्थिक रूप से कमजोर बच्चे इन दोनों परीक्षाओं की तैयारी करेंगे. आईपीएस अधिकारी व गृह विभाग के विशेष सचिव आईजी विभाग वैभव ने इसकी पहल की है.
फाइल फोटो

पटना. बिहार के 80 गरीब बच्चे को मुफ्त में आईआईटी और नीट की तैयारी कराई जाएगी. ‘आइए प्रेरित करें बिहार' (लेट्स  इंस्पायर बिहार) अभियान के तहत आर्थिक रूप से कमजोर बच्चे इन दोनों परीक्षाओं की तैयारी करेंगे. आईपीएस अधिकारी व गृह विभाग के विशेष सचिव आईजी विभाग वैभव ने इसकी पहल की है. प्रथम चरण में पटना और भागलपुर में इसकी व्यवस्था की गई है. पटना में 40 और भागलपुर में 40 बच्चों को हॉस्टल से लेकर खानपान और कोचिंग की निशुल्क व्यवस्था रहेगी. इसके लिए 27 फरवरी को परीक्षा का आयोजन बिहार के सभी जिलों में होगा. इसमें सफल होने वाले 40-40 बच्चों को इसकी सुविधा दी जाएगी. 

परीक्षा पास होने के बाद ‘आइए प्रेरित करें बिहार’ अभियान से जुड़े लोग सभी बच्चों के घर जाकर उनका सत्यापन भी करेंगे. परीक्षा कोई भी छात्र दे सकते हैं लेकिन उनमें आर्थिक रूप से कमजोर व होनहार छात्रों का ही चयन किया जाएगा. पटना में 20 को आईआईटी और 20 को नीट और भागलपुर में 40 छात्रों को आईआईटी की तैयारी कराई जाएगी.

खुशखबरी! सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद पदोन्नति की प्रकिया शुरू, कर्मचारियों को जल्द मिलेगा प्रमोशन

आईजी विकास वैभव ने बताया कि परीक्षा हर जिले में होगी. छात्रों को https://form.gle/dERMzt4 wkk2 SdS46 लिंक पर जाकर फॉर्म भरना होगा. इसके बाद परीक्षा लेने वाले टीम उनसे खुद ही संपर्क कर लेगी.

अनुभवी शिक्षक लेने क्लास

छात्रों को अनुभवी शिक्षक आईआईटी और नीट की तैयारी करवाएंगे. इसकी मॉनिटरिंग आईजी विकास वैभव करेंगे. समय-समय पर वे खुद भी क्लास लेंगे और बच्चों की परीक्षा भी ली जाएगी. इससे यह पता चलेगा कि छात्रों को कोचिंग का कितना फायदा हो रहा है.

बिहार के ग़ह विभाग के विशेष सचिव विकास वैभव ने बताया कि शिक्षा, समता व उधमिता के क्षेत्र में योगदान करने के लिए स्वैच्छिक लोगों का अभियान है. हम इसे और आगे तक ले जाएंगे. इससे यह पता चलेगा कि छात्रों को कोंचिग का कितना फायदा हो रहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें